डॉ. बी.आर. अंबेडकर

व्यक्तित्व एवं कृतित्व

[जन्म 1891 – निधन 1956]

भारत के प्रख्यात दलित समर्थक नेता जिन्होंने अपने लोगों के उद्धार और स्वीकृति के लिए जीवन भर काम किया। उन्होंने समाज से न सिर्फ दलितों के लिए रियायतें लीं, बल्कि समुदाय में कुछ आत्मविश्वास जगाने का काम भी किया। उन्होंने लक्ष्यों को हासिल करने कि लिए शिक्षा को महत्वपूर्ण माना और इसके प्रचार के लिए अनेक जर्नल और कई शैक्षणिक संस्थाओं की स्थापना भी की। संविधान सभा के सदस्य होने के नाते उन्होंने संविधान निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान दिया। जिसे दुनिया भर में उदार मूल्यों से रचे-बसे  एक सर्वमान्य दस्तावेज के रूप में पहचान मिली।

साभार: इंडियन लिबरल ग्रुप