ताज़ा पोस्ट

बुधवार, दिसम्बर 17, 2014
India Nobel Peace Prize_0.jpg
श्रीमान सत्यार्थी,
 
नोबेल पुरस्कार जीतने पर आपको बधाई। मलाला युसुफ़ज़ई के साथ नोबेल शांति पुरस्कार जीतने के बाद साक्षात्कार के अपने पहले सेट में दावा किया गया है कि बाल मजदूरी गरीबी का एक कारण हैं। मैं आपके जज्बे की खुले दिल से तारीफ़ करता हूँ, पर मैं आपके विचार से बिलकुल भी सहमत नहीं हूँ। वास्तव में इसका ठीक उलटा है – गरीबी बाल मजदूरी का एक मुख्य कारण है। 
 
यह दुनिया की सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार जीतने की उत्तेजना में दिया गया बयान नहीं है। आप अपने इन विचारों के लिए एक लंबे समय से जाने जाते हैं। लेकिन आपको नोबेल पुरस्कार मिलने से यह मान लेना कि यह धारणा एक शाश्वत सत्य है, बिलकुल ही गलत होगा।...
मंगलवार, दिसम्बर 16, 2014
smart-city.jpg
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जल्द ही हमारे शहरों को पुनर्जीवित करने वाले महत्वाकांक्षी कार्यक्रम की शुरुआत ‘स्मार्ट सिटी’ के बैनर तले करने वाले हैं। हालांकि, भारतीय शहर स्मार्ट तब बनेंगे जब इन्हें उन वास्तविक परिस्थितियों को केंद्र में रखकर बनाया जाएगा, जिनमें भारतीय काम करते हैं और उन्हें लालची राज्य सरकारों के चंगुल से छुड़ाकर स्वायत्तता दी जाएगी। जब तक शहरों में सीधे चुने गए ऐसे मेयर नहीं होंगे, जिन्हें शहर के लिए पैसा जुटाने की आज़ादी हो और म्यूनिसिपल कमिश्नर जिनके मातहत हों, तब तक शहरी भारत स्मार्ट होने वाला नहीं।
 
‘स्मार्ट सिटी’ जुमला हमारी कल्पना को आकर्षित करता है और महत्वाकांक्षी भारत के सामने टेक्नोलॉजी पर आधारित टिकाऊ शहरी भारत का विज़न रखता है। आज़ादी के बाद मोदी पहले ऐसे राजनेता हैं, जो शहरों के ब...
शुक्रवार, दिसम्बर 12, 2014
chetan4..jpg
तो हमने उबर पर प्रतिबंध लगा दिया और इसके साथ एप आधारित सारी टैक्स कंपनियों पर भी पाबंदी लगा दी, क्योंकि मोबाइल एप कंपनी में रजिस्टर्ड ड्राइवर ने टैक्सी में सवार दिल्ली की युवती से दुराचार किया था। कारण बताया गया कि उबर ने पंजीयन नहीं कराया और उस प्रक्रिया का पालन नहीं कराया, जो एक रेडियो कंपनी को करना चाहिए और स्वतंत्र रूप से अपने ड्राइवरों की पृष्ठभूमि की पर्याप्त जांच नहीं की। उनका सत्यापन नहीं कराया। बेशक, सरकार ने नहीं बताया कि कंपनी को दुराचार की घटना होने के पहले महीनों तक क्यों काम करने दिया गया।
 
उसने इस बात का भी उल्लेख नहीं किया कि उबर ने सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त, व्यावसायिक लाइसेंस दिए गए ड्राइवरों की सेवाएं ही अपने यात्रियों को मुहैया कराईं। सरकार ने इस तथ्य पर गौर नहीं किया कि यहीं सरका...
गुरूवार, दिसम्बर 11, 2014
Osho Rajneesh.jpg
मैंने सुना है ख्रुश्चैव के बारे में एक मजाक। ख्रुश्चैव एक पार्टी मीटिंग में बोल रहा था।बोलते वक्त वह स्टालिन की निंदा कर रहा था। तो एक आदमी ने पीछे से खड़े होकर कहा कि महाशय ,स्टैलिन के जिन कामों की आप निंदा कर रहे हैं और कह रहे हैं कि लाखों लोगों की हत्या की ,साइबेरिया भेजा ,जेल में डाला सारे मुल्क को खून में डुबो दिया। जो ये बातें आप कह हे हैं,जब स्टालिन यह सब कर रहा था तब भी आप स्टालिन के साथ थे। तब आप कहां चले गए थे। ख्रुश्चैव एक मिनिट के लिए चुप हो गया। फिर उसने कहा ,जिन महाशय ने ये बात कही है ,कृपा करके अपना नाम और पता बता दें।लेकिन वह फिर नहीं उठा।फिर ख्रुश्चैव ने कहा ,कृपा करके उठकर अपनी शक्ल ही दिखा दें,लेकिन उस आदमी का कोई पता नहीं चला।फिर ख्रुश्चैव ने कहा जिस वजह से आप दोबारा नहीं उठ रहे हैं उसी वजह से मैं चुप रह गया था। जिंदा रहना था तो चुप रहना जरूर...
बुधवार, दिसम्बर 10, 2014
Prashant narang_0.jpg
भारत में न्याय मिलने में विलंब के लिए कई प्रक्रियागत खामियां जिम्मेदार हैं। न्याय प्रक्रिया में सुधार के लिए कुछ कदम उठाए जाने चाहिए। 
स्वायत्तता के तमाम प्रावधानों के बावजूद भारत में न्यायपालिका आज भी आर्थिक रूप से सरकार पर ही निर्भर है। कहने को न्यायपालिका हमारी प्रणाली का एक अहम और पृथक अंग है पर न्यापालिका के लिए अलग से कोई बजट नहीं होता है, जैसा कि रेलवे के लिए होता है। 
 
न्यायपालिका के लिए अलग से बजट होगा तो इससे प्रणाली में पारदर्शिता आएगी कि न्याय सुनिश्चित करने के लिए हमारी प्रणाली कितना पैसा खर्च करती है। यह खर्च आबादी और केसों की संख्या बढ़ने के साथ किस अनुपात म...
बुधवार, दिसम्बर 10, 2014
Uber rape scandal.jpg
दिल्ली में पिछले शुक्रवार की रात उबेर नामक कंपनी के एक टैक्सी ड्राईवर द्वारा एक कंपनी में कार्यरत महिला पर बलात्कार कर लिया गया. महिला ने बहादुरी के साथ अपना संयम खोये बगैर उस टैक्सी का फोटो अपने कैमरे पर ले लिया और शनिवार की सुबह उसने पुलिस में इस घटना की रिपोर्ट कर दी. शाम होते होते वह टैक्सी ड्राईवर मथुरा में अपने आवास से गिरफ़्तार भी हो गया. जिस संयम से उस बहादुर महिला ने अपने सम्मान से खेलने वाले को कानून के हाथों में पहुंचाया था उसके बाद वास्तव में वह महिला बुद्धिमानी से भरी बहादुरी की मिसाल बन जाना चाहिये था. टीवी पर उसकी समय सूचकता की तारीफ़ होनी चाहिये थी और बहस का केंद्र बिंदु उसका संयम और उसकी बहादुरी होनी चाहिये थी. 
 
किंतु जो कुछ देश की राजधानी में उसके बाद हुआ और टीवी पर जिस किस्म की बह...

मुक्त बाज़ार और नैतिक चरित्र

Morality of Marketक्या मुक्त बाज़ार हमारी नैतिकता पर प्रश्न चिन्ह लगा रहा है? जाने कुछ विशेषज्ञों की राय...

आज़ादी ब्लॉग

Dammed_0.jpg
Char_0.jpg
सोमवार, दिसम्बर 15, 2014
- 'चार' और 'पद्मिनी माय लव' को सर्वश्रेष्ठ डॉक्युमेंट्री अवार्ड, तिची गोश्ता व सिल्वर गांधी को भी मिली सराहना - विजेता डॉक्यूम...

Osho Rajneesh.jpg
मंगलवार, अक्टुबर 07, 2014
बच्चा पेड़ पर चढ़ने की कोशिश कर रहा है; तुम क्या करोगे? तुम तत्काल डर जाओगे--हो सकता है कि वह गिर जाए, हो सकता है वह अपना पैर तोड़ ले...

10557199_370603963093619_3235391665263491743_n.jpg
सोमवार, सितंबर 01, 2014
"यदि आप ऐसे राजनेताओं को वोट देते आ रहे हैं जो आपको मुफ्त (दूसरों के खर्च पर) चीजें देने का वादा करते हैं, तब जब वे आपके पैसे से स...

PORTUGAL and drugs.png
बुधवार, अगस्त 27, 2014
विगत कुछ समय से पंजाब में ड्रग्स के सेवन करने वालों की संख्या में हुई वृद्धि ने शासन प्रशासन सहित स्थानीय जनता के माथे पर चिंता की...

no subsidy.jpg
मंगलवार, अगस्त 26, 2014
जिन लोगों को ये लगता हो कि किसानों की समस्या का एकमात्र समाधान सब्सिडी है, तो उन्हें न्यूजीलैंड देश से कुछ सबक सीखना चाहिए..। न्यू...

RTE.jpg
सोमवार, अगस्त 11, 2014
शिक्षा का अधिकार कानून के तहत आठवीं कक्षा तक के बच्चों को फेल नहीं किया जा सकता है. ऐसे में दिल्ली के सरकारी स्कूलों में हालत इत...

आपका अभिमत

क्या सरकार द्वारा निजी एयरलांस कंपनी स्पाइसजेट को आर्थिक सहायता प्रदान की जानी चाहिए?:

आज़ादी वी‌डियो

See video पांच साल तक अपने चुनावी क्षेत्र से गायब रहने वाले राजनेता चुनाव आते ही किस प्रकार अपनी लच्छेदार बातो...

सबस्क्राइब करें

अपना ई-मेल पता भरें:

फीडबर्नर द्वारा वितरित

आर्थिक स्वतंत्रता सूचकांक