mamta banerjee

भारतीय-शैली के साम्यवाद के बारे में ही जानने वाले पश्चिम बंगाल में वर्षों की ऊहापोह के बाद आखिरकार बदलाव का समय आ गया लगता है। यह राज्य महत्वपूर्ण आर्थिक विकास के मुद्दों के मामले में सभी बड़े राज्यों में लगभग सबसे नीचे के स्तर पर है, जैसे कि वहां ग़रीबी सीमा रेखा के नीचे रहने वालों का प्रतिशत सबसे ज्यादा है।

लोकप्रियता की लहर पर सवार होकर कोलकाता के रायटर्स बिल्डिंग पर कब्ज़ा करने की उम्मीद रखने वाली ममता बैनर्जी की जीत पश्चिम बंगाल की कमज़ोर होती अर्थव्यवस्था के लिए क्या मायने रखती है?

Category: