Gay sex

भारत जैसे आजाद मुल्क में इन दिनों ‘बैन’ यानी ‘प्रतिबंध’ शब्द अखबारों और समाचार चैनलों में खूब सुर्खियां बटोर रहा है. आम तौर पर प्रतिबंध का नाम सुनते ही किसी ‘कठमुल्ला’ और उसके उल-जुलूल फतवे का ध्यान आता है, मगर हमारे देश में इन दिनों सेंसर बोर्ड (केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड) और प्रतिबंध एक दूसरे का पर्याय बनते नजर आ रहे हैं.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री गुलाम नबी आजाद ने समलैंगिकता को एक 'रोग' और 'अप्राकृतिक' बता  कर काफी हंगामा खड़ा कर दिया जिस वजह से लोगों में, ख़ास तौर पर समलैंगिक समुदायों में रोष है.

आजाद ने कहा है , ' अगर कोई पुरुष दूसरे पुरुष के साथ यौन संबंध बनाता है , तो यह एक बीमारी है’ . उन्होंने कहा , विकसित देशों की तरह गे संबंध दुर्भाग्य से भारत में भी आ चुके हैं। यह बीमारी यहां भी बहुत तेजी से फैल रही है। यह हमारे लिए अच्छा संकेत नहीं है। हम ऐसे संबंधों की पहचान भी नहीं कर सकते, क्योंकि ये बहुत कम सामने आते हैं।

Category: