funds

भारत में शिक्षा के लिए संसाधन जुटाने की तमाम कोशिशें हो रही हैं। शिक्षा उपकर से लेकर न जाने क्या-क्या? पर हकीकत ये है कि सरकार जो पैसे खर्च करती हैं, उसका भारी दुरुपयोग होता है। क्यों न शिक्षा के लिए आवंटित पैसे सीधे-सीधे छात्रों को वाउचर के रूप में दे दिया जाए - पेश है इस पर एक पड़ताल।

कोई और, किसी और के धन को उतना ध्यानपूर्वक खर्च नहीं करता जितना कि 'वह' स्वयं। कोई और, किसी और के संसाधनों को उतना ध्यानपूर्वक प्रयोग नहीं करता जितना कि 'वह' स्वयं। अतः यदि आप 'दक्षता' और 'कारगर तरीके' की उम्मीद करते हैं, और यदि आप चाहते हैं कि ज्ञान का सदुपयोग हो, तो आपको संपत्ति के निजी तरीके को अपनाना ही होगा.. 
 
Category: