सेक्शन 377

17 दिसंबर के अंक में प्रकाशित अपने लेख में फौजिया रियाज ने मांग की है कि धारा 377 को खत्म कर देना चाहिए। होमोसेक्सुअलिटी पर सुप्रीम कोर्ट के जजमेंट के बाद देशभर में इसको लेकर बहस छिड़ी हुई है। मामला सेक्सुअलिटी से जुड़ा हो तो लोगों की दिलचस्पी काफी बढ़ जाती है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि धारा 377 में आपसी सहमति से बनाए जाने वाले समलैंगिक संबंध को भी जुर्म माना गया है। फिलहाल यह धारा वैलिड है, इसलिए यह जुर्म है। ऐसे में समलैंगिकता का समर्थन करने वालों की यह मांग तर्कसंगत लग सकती है कि इस धारा को ही खत्म कर दिया जाए। लेकिन इस मामले में भीड़ का

सभी धर्मों में आदि काल से ही समलैंगिकों की उपस्थिति के प्रमाण प्रत्यक्ष अथवा परोक्ष रूप से अवश्य मिलते हैं, फिर भी सभी धर्मगुरूओं द्वारा इसका विरोध किया जा रहा है। वास्तव में ऐसे मुद्दे ही अबतक अनेकता में एकता की भावना को जीवित रखे हुए हैं।

Category: