सीएसआर

अभी हाल ही में मैंने भारतीय हॉकी महासंघ के अध्यक्ष के रूप में पदभार संभाला है। मैं हॉकी की आन बान शान और पुरातन गौरव को पुनः स्थापित करने के लिए लगातार प्रयासरत हूं। हालांकि हॉकी की वर्तमान स्थिति को अलग करके मापा नहीं जा सकता, यह  मुद्दा अपने आप में काफी संवेदनशील है। भारत में खेलों को लेकर जबरदस्त उत्साह और संभावनाएं हैं, इसको परिपक्व करने की जिम्मेदारी हमारी है, ताकि विश्व खेल मंचों पर भारत के खिलाडी अपनी बेहतरीन प्रतिभा का प्रदर्शन कर सकें। आज जरुरत है कि हम दुनिया के दूसरे देशों की तरफ भी देखें। और खेल जगत में हो रहे बदलावों को

नए कंपनी कानून को संसद के दोनों सदनों की मंजूरी मिल चुकी है। इसके चलते कम से कम 500 करोड़ रुपये के नेट वर्थ और न्यूनतम 1,000 करोड़ रुपये राजस्व कमाने या 5 करोड़ रुपये से ज्यादा मुनाफा अर्जित करने वाली कंपनियों के लिए यह अनिवार्य हो जाएगा कि वे पिछले तीन वर्षों में अपने औसतन शुद्घ लाभ का 2 फीसदी कारोबारी सामाजिक उत्तरदायित्व (सीएसआर) पर खर्च करें।