सफ़लता

क्या आप अपने जीवन से संतुष्ट हैं?
सफलता और संतुष्टि के बीच का संबंध क्या है?
क्या संतुष्टि और सुख एक दूसरे के पूरक हैं?

सुखिया ये संसार है खावे अरू सोये, दुखिया दास कबीर है जागे अरू रोये।