संचार

पैसा वैसे ही है जैसे शरीर में रक्त का संचार होता है। समाजरूपी शरीर में पैसेरूपी रक्त  का संचार होता है। यब वह रक्त है जो समाज को जीने के लिए सशक्त और जीवंत बनाता है।

आपने उस बीमारी के बारे में सुना होगा जिसमें रक्त रुक जाता है और उसका संचार नहीं हो पाता ।तब रक्त के थक्के जमने लगने हैं और वह ब्लाक हो जाते हैं और शरीर में रक्त का संचार नहीं हो पाता। तब आप लकवाग्रस्त हो जाते हैं ।यदि ह्रदय में थक्के जमने लगते हैं तो आप मृत्यु को प्राप्त हो जाते हैं।

Category: