वाउचर

बजट 2017 पेश करने का समय सिर पर आ गया है और शिक्षा व्यवस्था का क्षेत्र ऐसे कुछेक क्षेत्रों में शामिल है जिन पर वित्त मंत्री को तुरंत ध्यान देना चाहिए। हमारी सार्वजनिक शिक्षा व्यवस्था बिल्कुल तहस-नहस हो चुकी है और उम्मीद के मुताबिक नतीजे नहीं दे पा रही। हम जब तक इसे दुरुस्त नहीं करेंगे, तब तक अच्छे दिन लाने की सरकार के तमाम कोशिशें बेकार साबित होंगी। 

आजादी के बाद के भारत की पहचान उसकी समाजवादी विचारधारा रही है लेकिन धीरे-धीरे वह बदला लेकिन 1991 के उदारवादी सुधारों को लागू करने के बाद भी वह मुक्त व्यापार और पूंजीवादी अर्थव्यवस्था के लिए प्रतिकूल है। कम्युनिस्ट पार्टी की दमनकारी नीति के कारण पश्चिमी उदारवाद चीन में जड़े नहीं जमा सका। इस तरह दोनों ही देशों की कोई खास विचारधारा नहीं है। लेकिन चीन भारत की तरह बेखबर नहीं है।चीन का एक स्पष्ट लक्ष्य है – आर्थिक वृद्धि और विकास और उसे हासिल करने के लिए एक  सुनिश्चित राह है ।यह बात अलग है कि उसने मुक्त बाजार के सिद्धांतों को समाजवादी विचारधारा की ओट में छुपा रखा है।

राजनीतिज्ञ औद्योगिक क्षेत्र के विजेता उत्पादों को चुनना और उन्हें ,सब्सिडी देना पसंद करते हैं । भ्रष्ट राजनीतिज्ञ विजेताओं की मदद करने के लिए उनसे रिश्वत लेते हैं। लेकिन बुद्धिमान और ईमानदार राजनीतिज्ञों को विश्वास होता है कि किउन्होंने वह दिमाग और नजरिया पाया है जो बाजार से आगे जाकर सोच सकते है।

शिक्षा और सूचना तकनीक मंत्रालय के मंत्री कपिल सिब्बल बुद्धिमान और ईनामदार हैं ।इसलिए बार-बार नाकाम होने के बावजूद वे इस या उस शैक्षणिक खिलौने को बढ़ावा देकर लोगों को चुंधियाने का मोह रोक नहीं पाते।

Author: 
स्वामीनाथन अय्यर

पूर्वी दिल्ली के सीलमपुर स्थित नवीन पब्लिक स्कूल में 100 से ज्यादा ऐसे बच्चे हैं, जिनके अभिभावक 5,600 रुपये सालाना शुल्क भुगतान करते हैं। यह राशि दिल्ली में एक औसत निजी स्कूल के तिमाही शुल्क के बराबर है। 28 अन्य छात्र ऐसे भी हैं, जो दो वर्ष पहले तक सरकारी स्कूलों में पढ़ते थे। इसके बाद उन्होंने इस स्कूल में दाखिला लेने का फैसला किया। नवीन पब्लिक स्कूल के मालिक एवं प्राचार्य भगवती प्रसाद को इन छात्रों के अभिभावक वाउचरों के जरिए भुगतान करते हैं। दरअसल ये अभिभावक स्कूल च्वाइस नामक एक विशेष कार्यक्रम का फायदा उठा रहे हैं जिसका संचालन गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) सेंटर फॉर सिविल सोसायटी (सीसीएस) और वैश्विक प्रीपेड सेवा प्रदाता ईडनरेड करती है।