ब्राजील

ब्राजील की कल्पनाओं पर फुटबॉल विश्वकप का खुमार जिस कदर हावी रहता है उतना कोई और आयोजन नहीं रहता। प्रत्येक चार वर्ष पर यह देश फुटबॉल देवता की आराधना करने वाले एक संप्रदाय में परिवर्तित हो जाता है। दरअसल, ब्राजील ने जितनी बार विश्वकप जीता है उतनी बार किसी और देश ने नहीं जीता। अतः वर्ष 2010 में जब वर्ल्डकप 2014 की मेजबानी ब्राजील को मिलने की घोषणा हुई तो हजारों लोगों ने रियो में समुद्र तट पर पार्टी कर जश्न मनाया। हम ब्राजीलियों को लगा कि वर्ल्डकप अपने घर आ रहा है और इससे हमें काफी खुशी हुई।

जब भी वापस आती हूं वतन किसी विदेशी दौरे के बाद, तो कुछ दिनों के लिए मेरी नजर विदेशियों की नजरों जैसी हो जाती है। बिल्कुल वैसे, जैसे आमिर खान के नए टीवी इश्तिहार में दर्शाया गया है। मुझे भी जरूरत से ज्यादा दिखने लगती हैं भारत माता के 'सुजलाम, सुफलाम' चेहरे पर गंदगी के मुहांसे, गंदी आदतों की फुंसियां और गलत नीतियों के फोड़े।