फ्री

कई विद्वानों का मानना है कि भारतवासी भारत में रहकर वैसी कामयाबी हासिल नहीं कर सकते, जो विदेशों में पहुंचते ही उनको नसीब हो जाती है। इस बार न्यूयॉर्क में मुझे इस बात की सच्चाई का गहरा एहसास हुआ। जिस दिन यहां पहुंची एक पारसी दोस्त की बेटी की शादी में कानक्टीकट जाना हुआ और रास्ते में पता चला कि गाड़ी का ड्राइवर देसी था।

फ्री मार्केट  के  खिलाफ दी जानेवाली  दलीलों का एक ही मतलब है कि स्वतंत्रता में विश्वास नहीं है।

(बड़े आकार में देखने के लिए पोस्टर पर क्लिक करें)

Category: