नफरत

तेलंगाना के गठन के फैसले के साथ हमने जो शुरू किया है, वह इतना  खतरनाक है कि यदि इसे अभी नहीं रोका गया तो हम आने वाले वक्त में बहुत पछताएंगे। धमकाकर नया राज्य बनाने के लिए मजबूर करने की कोशिश के नतीजे अच्छे नहीं होंगे।

बिरला हो या टाटा ,अंबानी हो या बाटा
सबने अपने चक्कर में देश को है काटा
अरे हमरे ही तो खून से इनका
इंजिन चले धकाधक
आमआदमी की जेब हो गई है सफाचट