दो

  • जब कर बहुत ज्यादा हो जाते हैं तो लोग भूखे रह जाते हैं।
    - लाऔत्से
  • प्रत्येक कर हमारे दिल में कटार बनकर चुभता है
  • एक आदमी एक हत्या से खलनायक बनता है लाखों लोगों को मारकर वह नायक हो जाता है।
Category: 

मध्यकाल में अराजकतावादी दर्शन की झलक मार्को जिरोलमो वाइड के विचारों में देखने को मिलती है. अराजकतावाद और स्वाधीनतावाद के बारे में विस्तृत विमर्श हमें सोलहवीं शताब्दी के फ्रांस के दूरद्रष्टा कवि-दार्शनिक ला बूइटी(1530—1563) के साहित्य में भी प्राप्त होता है. उसने स्वाधीनतावाद के पक्ष में जोरदार तर्क दुनिया के सामने रखे. क्रीटवासी जीनो से प्रभावित बूइटी का विचार था कि तानाशाही चाहे वह बलपूर्वक स्थापित की गई हो, अथवा किसी अन्य माध्यम से, बड़े से बड़ा तानाशाह केवल उस समय तक सत्ता शिखर पर बना रह सकता है, जब तक कि जनता उसको वहां बनाए रखना चाहती है.

नरेगा कि सबसे बड़ी समस्या अकुशल श्रमिको को काम मुहैया करने की भी है जो इस योजना का घोषित उद्देश्य है ! इसमें कोई ऐसी नीति नहीं है जो सार्वभौमिक रूप से रोजगार को पैदा करने कि क्षमता रखती है ! न ही इसमें कोई दीर्घकालिक नीति या योजना है ! सही मायने में यह एक अल्प अवधि परक  आकस्मिक योजना है जो सूखे या आकाल से प्रभावित  क्षेत्रों या उन भागों में चलाई जाती है जो विकास कि धारा से कही पीछे छूट गए है,लेकिन यह तो सामाजिक कार्यकर्ताओ से भरे एनएसी का अति उल्लास पूर्ण कार्य है ! जिसमे रमेश और सोनिया दोनों शामिल है ! ऐसे में यह समझ से परे है !