चुनाव आयोग

आज की भारतीय राजनीति राजनीतिज्ञों से कम और सुप्रीम कोर्ट और महा लेखा नियंत्रक (सीएजी)द्वारा ज्यादा संचालित हो रही है।इसका भारतीय राजनीति पर क्या असर पड़ेगा?

जवाब यह है कि हम भारत की संवैधानिक संस्थाओं द्वारा भ्रष्ट और बेरहम राज्य के खिलाफ बगावत देख रहे हैं। एक अंतर्निहित राजनीतिक साझिश यह सुनिश्चित करती है कि सभी राजनीतिक दल बड़े पैमाने पर ऱिश्वत और भाईभतीजावाद में बड़े पैमाने पर लिप्त  होते हैं। ऐसे माहौल में नतीजे केवल न्याय से नहीं वरन पैसे, बाहुबल और प्रभाव से तय होते हैं।

Author: 
स्वामीनाथन अय्यर