आत्मविश्वासी

विपक्ष के नेता लालकूष्ण आडवाणी ने 22 जून को मुंबई में कहा कि रैनबैक्सी  का जापानी कंपनी के हाथों बिकना राष्ट्रिय हितों के साथ धोखाधड़ी है ! उन्होंने यह भी कहा कि हमें सोचना चाहिए कि ऐसे सौदे से सस्ती दवाओं  की सुलभता पर कैसा असर पड़ता है ! श्री आडवाणी यह मानकर चल रहे है की भारतीय रैनबैक्सी  किसी विदेशी रैनबैक्सी की अपेक्षा अपनी दवाएं सस्ते दामों पर बेचेगी ! हकीकत यह है की कीमतों का भारतीय या विदेशी होने से कोई लेना देना नहीं है ! कीमतें बाजार में प्रतिस्पर्धा से निर्धारित होती है!

Category: