अफसर

कितने आश्चर्य की बात है कि जो लोग सोचतें हैं कि वे डॉक्टर, अस्पताल और दवाईयों का खर्च वहन नहीं कर सकते हैं, वे ही लोग ये सोचतें हैं कि वे डॉक्टर, अस्पताल, दवाईयां और इसकी देखरेख के लिए सरकारी अफसरशाही के खर्च को वहन कर सकते हैं..
- थॉमस सोवेल
Category: 

नन्हें मुन्ने बच्चों को सुबह सुबह उनके घर से लेकर अपने वैन में स्कूल छोड़ने व छुट्टी होने पर स्कूल से घर तक पहुंचाते समय ड्राइवर गुलशन अक्सर सोंचता कि काश !