क्या सांसदों के आपराधिक मामलों की त्वरित सुनवाई के लिए अलग अदालतों की व्यवस्था होनी चाहिए?

हां...
91%
नहीं...
9%
पता नहीं...
0%