उद्यमशीलता बनाम सरकारी उद्यम

हाल ही में बाजार के व्यवहार से संबंधित एक महत्वपूर्ण गतिविधि देखने को मिली। एक तरफ जहां निजी ई-रिटेलिंग जाइंट फ्लिपकार्ट को खरीदने के लिए विश्व की कई कंपनियां जोड़ तोड़ में लगीं थीं वहीं दूसरी तरफ सरकारी विमान कंपनी एयर इंडिया में विनिवेश के लिए सरकार प्रयासरत थी। सरकार द्वारा विभिन्न कंपनियों को एयर इंडिया में विनिवेश करने के लिए कई बार प्रोत्साहित करने के बावजूद उसे एक भी खरीददार नहीं मिला जबकि फ्लिपकार्ट को वालमार्ट ने 16 बिलियन अमेरिकी डॉलर में खरीद लिया। सामान्य सी लगने वाली यह घटना सामान्य कतई नहीं है। यह घटना एक बार फिर साबित करती है कि तमाम बाधाओं के बावजूद निजी उद्यमों के प्रति लोगों का विश्वास अडिग है जबकि सरकारी उद्यमों के प्रति लोगों के मन में कई शंकाएं अब भी विद्यमान हैं..  - आजादी.मी