कठपुतली के ज़रिये स्वच्छता अभियान

जैसा की भारत में अधिकतर जगह देखा जाता है, गन्दगी और प्रदूषण की समस्या राजस्थान में भी व्याप्त है. सार्वजनिक जगहों पर फ़ैली गन्दगी से बीमारियाँ और अन्य समस्याओं का खतरा बना रहता है. इस बारे में जनता को जागरूक करने के लिए निब एंड लेंस कम्युनिकेशन नामक एक गैर सरकारी संगठन ने एक कठपुतली अभियान का सहारा लिया है. सुनीता कसेरा यहाँ बता रही हैं कि फैले हुए कचरे से होने वाले दुष्परिणामों को कठपुतली के माध्यम से नाटक, गाने और अन्य कहानियों के साथ लोगों को समझाया जाता है. चूंकि कठपुतली राजस्थानी संस्कृति का लम्बे समय से हिस्सा रहा है, इस लिए लोगों ने इस तरीके को काफी पसंद किया और अपने सामान्य जीवन में स्वच्छता की तरफ अधिक ध्यान भी देना शुरू कर दिया. लोगों ने अब अपने घरों के सामने कूड़ा फेंकना बंद कर दिया है. उम्मीद है कि सरकार भी इस तरफ ध्यान देगी और राज्य में कूड़ादानों और कचरा व्यवस्था को और पुख्ता करेगी.

- साभार: इंडिया अनहर्ड