सार्वजनिक नीति - अन्य लेख

इस पेज पर विभिन्न लेखकों द्वारा विभिन्न विषयों पर लिखे गये लेख दिये गये हैं। पुरा लेख पढ़ने के लिये उसके शीर्षक पर क्लिक करें। आप लेख पर अपनी टिप्पणीयां भी भेज सकते हैं।

इस बात को लेकर बहुत की कम रजामंदी है कि आखिर नैतिक क्या है और किस चीज से नैतिकता का पतन होता है। धर्म में यकीन रखने वाला आदमी नैतिकता को भगवान से जोड़कर देखता है। एक समाजवादी के लिए नैतिकता का मतलब दौलत को सबमें बांटना हो सकता है। एक उदारवादी के लिए नैतिकता का मतलब धार्मिक होने के साथ-साथ आय में समानता की बात हो सकती है.. लेकिन आजादी उसकी प्राथमिकता में सबसे पर होता है। मैं नैतिकता के इसी खांके को मानती हूं।

नैतिकता की इस विचारधारा के मुताबिक व्यक्ति की आजादी सबसे बड़ा लक्ष्य है। और किसी व्यक्ति के चरित्र की सबसे बडी परीक्षा तब होती है, जब

हमसे से अधिकतर एक उपभोक्ता हैं, जो बाजार में अपने लिए बेस्ट डील की तलाश करता है। हममे से अधिकतर नैतिक भी हैं, जो समाज और समुदाय के लिए अपनी तरफ से अच्छा करने की कोशिश करता है। लेकिन दुर्भाग्य से बाजार की जरुरतें हमारी अपनी नैतिक जिम्मेदारियों से टकरा जाती हैं। तो हम इस टकराव को कैसे झेलें। हम अक्सर इसे नजरअंदाज कर जाते हैं। एक उपभोक्ता के तौर पर हम वे फैसले लेने चाहिए, जिनकी छाप हमारी नैतिकता पर नहीं दिखाई दे। इस तरह हम अपनी मनपसंद उत्पाद और सेवाओं तथा आदर्श के बीच में किसी एक का असहज चुनाव करने से बच सकते हैं।

उदाहरण के लिए जो उत्पाद हम

नैतिकता के मामले में खुली बाजार व्यवस्था एम्प्लीफायर की तरह है।हमारे पास ज्यादा दौलत और संसाधन देकर वह हमारे उन गुणों का और ज्यादा विकास करती है, जो पहले से ही हमारे पास हैं। इसका कुल मिलाकर जो नतीजा सामने आता है, वह मोटे तौर पर सकारात्मक होता है। अधिकतर लोग अपने लिए, अपने परिवार के लिए, अपने दोस्तों के लिए अच्छी जिंदगी चाहते हैं और यह सकारात्मक नैतिकता का ही नतीजा है। बाजार समाज के अलग-अलग तबके के बहुत ज्यादा लोगों के लिए इंसानी जरुरतों की तमाम चीजें हासिल करने का एक मौका देता है, मुमकिन बनाता है।

खुली बाजार व्यवस्था के दूसरे पहलू हमारे

आलोचकों का सही ही मानना है कि खुली बाजार व्यवस्था परंपरा और वो सारे स्थानीय नियम कानून जो हमें नैतिकता को बनाए रखने और सिखाने में मदद करती, उनका पतन करती है। खास तौर पर बच्चों की हालत के बारे में जरा सोचिेए। वो नैतिकता सबसे पहले अपने परिवार से सीखते हैं जिसके साथ वो भावनात्मक तौर पर सबसे ज्यादा जुड़े होते हैं। प्यार बच्चों को नैतिकता के सबसे अधिक जोड़ता है और उनके अंदर दया और अपराधबोध जैसी जरुरी नैतिक भावना का विकास करता है। औद्योगिकीकरण से पहले के समाज में नैतिकता से जुडी आदतों को गांव,समुदाय या जनजातियों के साथ साथ धार्मक प्रतिष्ठान और लोक कहानियां और मजबूत करती थी।

बर्नाड हेनरी लेवी फ्रांसीसी विचारक हैं। उन्होंने तीस से ज्यादा किताबें लिखी हैं, जिनमें बेस्टसेलर अमेरिकन वर्टिगो भी शामिल है। हाल में उनकी किताब लेफ्ट इन डार्क प्रकाशित हुई है।

यह साफ है कि आज के जमाने में हर चीज के पैमाने के तौर पर स्वार्थ, पैशन, पैसे को लेकर अंधी होड़ और भौतिकतावाद को लेकर जिस तरह की जबरदस्त प्रतिस्पर्धा है, वह हमारी नैतिकता का जोरदार पतन करती है। संक्षेप में कहें तो खुली बाजार व्यवस्था सभी नियम-कानून से मुक्त और सबसे ताकतवर के लालच से चलने वाली व्यवस्था है।

महान एलेक्जेंडर

अमेरिका के पैदा होने के समय अधिकतर समाज या तो जमींदारों के दबदबे में था या फिर सैन्य व्यवस्था के अधीन। अमेरिका के निर्माताओं ने इन मॉडल्स को खारिज करते हुए तर्क दिया कि एक ऐसी सोसायटी बनाई जाए, जहां व्यापार की छूट हो और जो जहां के लोग अपने कानून को मानें। इस तरह का समाज सत्ता की चाहत के लिए नहीं, बल्कि हर चीज को अधिकता में पाने के लिए समर्पित होगी। एलेक्जेंडर हेमिल्टन ने फेडरेलिस्ट-12 - में लिखा है ‘बड़े राजनयिक इस बात को अच्छे से समझ गए हैं और मानते हैं कि वाणिज्य की खुशहाली देश की समृद्धि का सबसे उपयोगी और लाभदायक स्रोत है। राजेनेताओं ने इसे अपने करियर का सबसे

बाजार में प्रतिस्पर्धा इंसान पर इस बात का जोरदार दबाव बनाती है कि अच्छे आचार विचार के साधारण नियमों को तोड़े और उसके लिए अच्छे तर्क भी बताए। यही वह निरपेक्षता( अपने पसंद की चीज हासिल करने के लिए खुद को धोखा देने की प्रवृति ) है, जो नैतिकता का पतन करती है। लेकिन खुली बाजार व्यवस्था की खिलाफत करने के लिए अपने आप में यह कोई तर्क नहीं है। उन लोकतांत्रिक तरीकों के बारे में भी सोचिए, जिनसे नैतिकता का पतन होता है। राजनीतिक सत्ता हासिल करने के चक्कर में भी लोगों की नौतिकता का पतन होता है। इसके लिए वह सार्वजनिक सभाओ में दूसरों पर चिल्लाते हैं, ऐसे वादे करते हैं जिन्हें वे निभा

पिछले कई दशकों के दौरान दुनिया ने ऐसे तमाम तरीके देखे हैं, जिसमें एक सक्रिय बाजार व्यवस्था के चलते भौतिक और सामाजिक प्रगति हुई है और साथ ही साथ उसी वक्त पर नैतिकता भी मजबूत हुई है। इसके ठीक उलट, वैसे लोग जो खुली बाजार व्यवस्था के विरोधी आदर्शवादी और योजनाबद्ध व्यवस्था में रहे हैं, उनका आर्थिक विकास एक ही जगह अटक गया। सिविल सोसायटी की हालत और खराब हुई और नैतिकता का पतन हुआ। हाल के दशक में योजनाबद्ध अर्थवयवस्था अपने ही विरोधाभासों के बीच खत्म हो गई। इस तरह के प्रयोग पूरी तरह से व्यवस्थागत नाकामी साबित हुए। तबाही को काफी लंबे समय तक झेलनेवाले लोग इससे छुटकारा पाने के लिए

Pages