सार्वजनिक नीति - अन्य लेख

इस पेज पर विभिन्न लेखकों द्वारा विभिन्न विषयों पर लिखे गये लेख दिये गये हैं। पुरा लेख पढ़ने के लिये उसके शीर्षक पर क्लिक करें। आप लेख पर अपनी टिप्पणीयां भी भेज सकते हैं।

मेरे प्रिय आत्मन !

एक मित्र ने पूछा है कि पूंजीवाद तो स्वार्थ की व्यवस्था है फिर भी आप उसका समर्थन कर रहे हैं ?

इस संबंध में थोड़ी सी बात समझ लेना जरूरी है। पहली बात तो यह है कि आजतक मनुष्य को जो गलत बातें सीखायी गई हैं उनमें से एक गलत बात यह है कि अपने लिए जीना बुरा है। मनुष्य पैदा ही इसलिए होता है कि अपने लिए जिये ! मनुष्य को समझाया जाता रहा है कि दूसरों के लिए जियो,अपने लिए जीना बुरा है।बाप बेटे के लिए जिये और बेटा फिर अपने बेटे के लिए जिये ; और इस तरह से न बाप जी पाए न बेटा जी पाये।समाज के लिए जियो,राष्ट्र के लिए

मराठी के लोकप्रिय अखबार लोकसत्ता के आयडिया एक्सचेंज में पिछले दिनों किसान नेता और उदारवादी चिंतक शरद जोशी को बुलाया गया था । इस कार्यक्रम में अखबार के संपादकीय विभाग के लोग मेहमान के साथ विभिन्न मुद्दों पर बातचीत करते हैं। इस कार्यक्रम में शरद जोशी देश की कृषि की समस्याओं और उसके समाधान के बारे में विस्तार और बेबाकी के साथ अपने विचार रखे । हम लोकसत्ता से साभार इस बातचीत के अंश दो किश्तों में प्रकाशित कर रहे हैं। मराठी में हुई इस बातचीत का अनुवाद किया है – सतीश पेडणेकर ने। यहां प्रस्तुत है उसकी दूसरी किस्त -

अभिजित

मराठी के लोकप्रिय अखबार लोकसत्ता के आयडिया एक्सचेंज में पिछले दिनों किसान नेता और उदारवादी चिंतक शरद जोशी को बुलाया गया था । इस कार्यक्रम में अखबार के संपादकीय विभाग के लोग मेहमान के साथ विभिन्न मुद्दों पर बातचीत करते हैं। इस कार्यक्रम में शरद जोशी देश की कृषि की समस्याओं और उसके समाधान के बारे में विस्तार और बेबाकी  के साथ  अपने विचार रखे । हम लोकसत्ता से साभार इस बातचीत के अंश दो किश्तों में प्रकाशित कर रहे हैं । मराठी में हुई इस बातचीत का अनुवाद किया है – सतीश पेडणेकर ने। यहां प्रस्तुत है उसकी पहली किस्त -

गर्भ में भ्रूण के लिंग परीक्षण व भ्रूण के कन्या होने की दशा में जन्म लेने से पूर्व ही उसकी हत्या कर देने के कारण देश में पुरूष-महिला लिंगानुपात के बीच की खाई लगातार बढ़ती ही जा रही है। तमाम सरकारी व गैरसरकारी प्रयासों के बावजूद यह खाई कम होने का नाम नहीं ले रही है। विश्व स्तर पर हुए एक हालिया अध्ययन के मुताबिक भारत में प्रति हजार पुरुषों की तुलना में औसतन महिलाओं की संख्या मात्र 940 है। कई राज्यों में तो प्रतिहजार पुरुषों के बनिस्पत महिलाओं की संख्या के बीच 100-120 से ज्यादा का अंतर देखने को मिला है। अर्थात प्रति हजार पुरूषों के मुकाबले मात्र 880 महिलाएं। 2011 में हुई

एक तरफ जनरल तो दूसरी तरफ आडिटर जनरल सरकार के नाक में दम किए हुए हैं। कुछ समय पहले सीएजी ने इस बार  बहुचर्चित 2 जी खोटाले से छह गुना बड़े कोयला ब्लाकों की नीलामी  न करने के घोटाले का भंडाफोड करके सरकार की कार्यक्षमता और नीयत  पर  फिर सवालिया निशान लगा दिया है और एक बार फिर  इस तथ्य को रेखांकित किया है कि किस तरह सरकारी कामकाज भ्रष्टाचार का पर्याय बनता जा रहा है।

सीएजी ने – परफार्मेंस आडिट आफ कोल ब्लाक एलोकेशन – में कहा है कि सरकार ने 2004 से 2009 के बीच 155 कोयला ब्लाकों को व्यापारिक कंपनियों को आबंटित करके

सकल घरेलू उत्पाद में तेजी से वृद्धि गरीबी का सबसे कारगर इलाज है। यही मुखर  संदेश है वर्ष  2009-10 के गरीबी के बारे में आंकड़ों का।2004-05 और 2009 -2010 के बीच 8.5 प्रतिशत  प्रतिवर्ष की रेकार्ड विकास दर ने 1.5 प्रतिशत प्रतिवर्ष की  रेकार्ड दर से गरीबी घटाई है। यह आंकड़ा  इससे पहले के 11वर्षों में गरीबी घटने की 0.7 प्रतिशत प्रतिवर्ष की दर के आंकड़े से दोगुना है।

वामपंथियों द्वारा अक्सर भ्रामक धारणा फैलाई जाती है कि तेजी से बढ़नेवाली विकास दर का लाभ केवल अमीरों को ही मिलता है गरीबों को उसका कोई लाभ नहीं मिल पाता। उपरोक्त

गरीबों द्वारा चुने विकल्पों

का सम्मान करने

की जरूरत

वाउचर और सशर्त नगदी देने के नए साधन सामाजिक सेवा प्रदाताओं में प्रतियोगिता पैदा कर सकते हैं और उपभोक्ताओं को विकल्प दे सकते हैं। सरकार स्कूलों को पैसा देने के बजाय अभिभावकों को स्कूल वाउचर देगी। जिन्हें वे शिक्षा की सेवा हासिल करते समय सरकारी या प्रायवेट स्कूलों में इस्तेमाल कर सकते हैं। अब सरकारी पैसा केवल सरकारी स्कूलों का एकाधिकार नहीं होगा। वह ऐसे किसी भी स्कूल को उपलब्ध होगा जिसे

प्रतियोगिता है महामंत्र

गुररचरण दास ने सही निदान किया है – भारत समृद्ध हो जाएगा लेकिन आनंदित नहीं होगा यदि हमने शासन पद्धति को ठीक नहीं किया।। अच्छी शासन पद्धति आर्थिक समृद्धि और आनंदपूर्ण और परिपूर्ण जीवन के के बीच की कड़ी है। सचेतन या अवचेतन रूप से लोगों और राजनीतिज्ञों में शासन पद्धति की महत्व को समझना शुरू कर दिया है। लेकिन महसूस करना एक बात है और यह जानना अलग बात है कि उसे हासिल कैसे किया जाए।

जय देसाई की एकाउंटेबिलिटी डिफीशिट (जवाबदेही की कमी )पुस्तक बहुत सही समय पर आई है जिसमें शासन विधि

Pages