सरकार -कुछ विचार

  • सरकार एक काम बखूबी करती है – वह जानती है कि कैसे आपका पैर तोड़ा जाए और फिर वह आपको बैसाखी देती है और कहती है – यदि सरकार नहीं होती तो आप चल नहीं पाते।
  • युद्ध विशालकाय सरकार का एक कार्यक्रम होता है।
  • ऐसा क्यो लगता है कि सरकार सिर्फ एक ही चीज से हमारा संरक्षण करती है वह है हमारी आजादी से।
  • सरकार की मदद भी उद्योगों के लिए उतनी ही नक्सानदेह है जितनी की उसके द्वारा उद्योगों को परेशान किया जाना।दरअसल एक ही तरीके उद्योगों की मदद कर सकती है कि उनसे दूर ही रहे।
  • कोई कानून आम व्यक्ति को अधिकार नहीं देता ।हर कानून व्यक्ति से अधिकार लेकर उसे सरकार को सौंपता है।
  • आमतौर पर सरकार चलाने की कला यह है कि नागरिकों के एक समूह से अधिकतम संभव पैसा लेकर उसे दूसरे समूह को देना।
  • सरकार चोरों का ऐसा समूह है जिसका आदेश चलता है।
  • राज्य जो कुछ भी कहता वह झूठ होता है और उसके पास जो भी है वह चुराया हुआ है –नीत्शे
  • अगर आर सहारा रेगिस्तान सरकार को सौंप दें तो पांच साल में रेत का भी काल पड़ जाएगा।
  • सरकार हमेशा समस्या रही है समाधान कभी नहीं।