ब्लॉग

Sunday, September 20, 2020

पूंजीवाद संपत्ति पैदा करवाता है बड़े सहज ढंग से । किसी के पीछे कोई कोड़ा नहीं है, किसी के पीछे कोई बंदूक नहीं है। लेकिन व्यक्ति की अपनी छोटी सी दुनिया है, उसकी अपनी प्रेरणा है। अगर मेरी पत्नी बीमार है तो मैं रातभर काम कर सकता हूं। लोकिन कोई कहे कि मनुष्यता बीमार है तो सोचूंगा –होगी। मनुष्यता तो इतने दूर की बात हो जाती है कि उससे कोई संबंध नहीं बनता। उससे कोई प्रेरणा पैदा नहीं होती। अगर कोई मुझसे कहता है कि मेरे बेटे को पढ़ाना है तो मैं गड्ढा खोद सकता हूं भरी धूप में। लेकिन कोई मुझे कहता है कि...

Monday, September 14, 2020

मैं हिंदी हूँ, मैं भाषा हूँ। मैं राष्ट्रगौरव की अभिलाषा हूँ।।
मैं सज्जा हूँ, मैं जीवन हूँ। मैं भावों का दर्पण हूँ।।
मैं अमृत हूँ, मैं संगत हूँ। मैं प्रेम की चिर यौवन हूँ।।
मैं हिंदी हूँ, मैं भाषा हूँ। मैं राष्ट्रगौरव की अभिलाषा हूँ।।

 मैं माँ-सम हूँ, मैं अम्बर हूँ। मैं सुंदर और मनोहर हूँ।।
मैं मीठी हूँ, मैं अनूठी हूँ। मैं सुघरता की धरोहर हूँ।।
    मैं हिंदी हूँ...

Monday, September 14, 2020

दुनिया भर में 67 करोड़ लोगों के द्वारा प्रयुक्त की जाने वाली ‘हिंदी’ विश्व की तीसरी सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है। मैंड्रिन (चीनी) और अंग्रेजी का स्थान क्रमशः पहला और दूसरा है। दुनिया भर में एक ओर जहां तमाम भाषाएं विलुप्त हो रही हैं और उनके संरक्षण और संवर्द्धन के लिए अनेक कदम उठाने की जरूरत पड़ रही है वहीं हिंदी का प्रसार दिन दूनी रात चौगुनी गति से हो रहा है। लेकिन ऐसा हमेशा से ही नहीं था। आजादी के पहले व बाद में हिंदी के प्रचार प्रसार के लिए व्यक्तिगत और संस्थागत स्तर पर प्रयास किए जाते...

Friday, September 11, 2020

सर होर्म्सजी फ़िरोज़शाह मोदी को सर होमी मोदी के नाम से जाना जाता है। वह एक प्रसिद्ध पारसी व्यवसायी थे, जो टाटा समूह से जुड़े और भारत के प्रशासक बने। वह 1929 से 1943 तक 14 वर्षों के लिए भारतीय विधान सभा के सदस्य थे। उन्होंने वायसराय की कार्यकारी परिषद में अपनी सेवाएं प्रदान की थी। होमी मोदी को भारत की संविधान सभा के सदस्य के रूप में भी चुना गया था। मुंबई में एक सड़क का नाम उनके नाम पर ‘सर होमी मोदी स्ट्रीट’ रखा गया है।

होमी...

Thursday, September 03, 2020

शेतकरी संगठन के संस्थापक शरद अनंतराव जोशी का जन्म 3 सितंबर 1935 को हुआ था। आरंभिक जीवन में वह एक प्रोफेसर और ब्यूरोक्रैट थे किंतु उन्हें सबसे ज्यादा प्रसिद्धि और आदर उनके द्वारा किसानों के अधिकारों के लिए छेड़ी गई मुहिम के कारण प्राप्त हुई। वे एक ऐसे विरले भारतीय उदारवादी चिंतक थे जिन्होंने वातानुकूलित कमरे की बजाए धरातल पर काम किया।

भारत सरकार की नौकरी छोड़कर वे स्विट्जरलैंड चले गए। लेकिन वर्ष 1977 में वे वह स्विटजरलैंड में...

Friday, August 07, 2020

बहुमुखी प्रतिभा के धनी रवींद्रनाथ टैगोर का जन्म 7 मई, 1861 को बंगाली परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम देवेंद्रनाथ टैगोर और माता का नाम शारदा देवी था। उनकी स्कूल की पढ़ाई प्रतिष्ठित सेंट जेवियर स्कूल में हुई। टैगोर ने बैरिस्टर बनने की चाहत में 1878 में इंग्लैंड के ब्रिजटोन पब्लिक स्कूल में नाम दर्ज कराया। उन्होंने लंदन कॉलेज विश्वविद्यालय में कानून का अध्ययन किया लेकिन 1880 में बिना डिग्री हासिल किए ही वापस आ गए। रवींद्रनाथ टैगोर को बचपन से ही कविताएं और कहानियां लिखने का शौक था। वह गुरुदेव...

Friday, July 31, 2020

यह कहने की आवश्यकता नहीं कि मैं प्रतिबंध के पक्ष में नहीं हूं। मैं शराब पर प्रतिबंध के पक्ष में नहीं हूं। मैं सिगरेट पीने पर लगाए गए प्रतिबंध के पक्ष में नहीं हूं; मैं सैक्रीन व साइक्लामेट पर प्रतिबंध के पक्ष में नहीं हूं वरन मैं बस इस पक्ष में हूं कि हर किसी को खतरों से अवगत कराया जाए और उन्हें इस बात की छूट मिले कि अपनी पूरी बुद्धिशीलता व अपने निर्णय के अनुसार वे वही करें जो करना चाहते हैं।

मैं यह स्पष्ट करना चाहता हूं कि मैं...

Wednesday, July 29, 2020

विधवा महिलाओं के मसीहा और सहनशीलता, सादगी तथा उदार विचारधारा के लिए प्रसिद्ध महान शिक्षाशास्त्री ईश्वर चन्द्र विद्यासागर का 26 सितंबर 1820 को पश्चिमी मेदिनीपुर जिला, पश्चिम बंगाल में एक गरीब परिवार में हुआ था। उनके बचपन का नाम ईश्वरचंद्र बन्दोपाध्याय था। वे बंगाल के पुनर्जागरण के स्तम्भों में से एक थे। वे महान दार्शनिक, समाजसुधारक और लेखक के रूप में जाने जाते हैं।

आइए जानते हैं उनके बारे में..
ईश्वर चंद्र...

Pages