ब्लॉग

Friday, February 19, 2021

स्वतंत्रता सेनानी, समाजसेवी, उदारवादी विचारक, शिक्षाविद् एवं समाज सुधारक गोपाल कृष्ण गोखले का जन्म रत्‍‌नागिरी कोटलुक ग्राम में एक सामान्य परिवार में 9 मई 1866 को हुआ। उनके पिता का नाम कृष्ण राव था जो एक क्लर्क थे। न्यू इंग्लिश स्कूल पुणे में अध्यापन करते हुए गोखले जी बालगंगाधर तिलक के संपर्क में आए। गोपाल कृष्ण गोखले को वित्तीय मामलों की अद्वितीय समझ और उस पर अधिकारपूर्वक बहस करने की क्षमता से उन्हें भारत का 'ग्लेडस्टोन' कहा जाता है। वे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में सबसे प्रसिद्ध नरमपंथी थे...

Wednesday, February 17, 2021

शिक्षा विभाग के अधिकारियों द्वारा नॉर्थ दिल्ली म्युन्सिपल कॉरपोरेशन के स्कूल में किये गए औचक निरीक्षण में कई शिक्षक अनुपस्थित पाए गए। एक शिक्षक ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई थी लेकिन वास्तव में वह निरीक्षण के दौरान स्कूल में उपस्थित नहीं था। जो शिक्षक स्कूल में उपस्थित थे वे भी क्लास नहीं ले रहे थे। कुछ शिक्षक जो क्लास ले रहे थे वहां भी छात्रों की उपस्थित कुल दाखिल छात्रों की संख्या के आधे से थोड़ी ही अधिक थी। यह तब है जबकि कोरोना महामारी के कारण स्कूल बंद हैं और कक्षाएं ऑनलाइन चल रही हैं।...

Monday, February 08, 2021

भारत में कृषि उत्पादों का मूल्य समर्थन एक जोखिम भरा काम है और हमें इसमें निहित खतरों से पहले ही चेत जाना चाहिए। भारत की राष्ट्रीय आय का 50 प्रतिशत कृषि से आता है। मूल्य समर्थन की नीति मूल तौर पर मूल्य समर्थित माल के उत्पादन के लिए शेष समुदाय द्वारा उत्पादकों को दिया गया अनुदान है। जिन देशों में कृषि राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था का एक छोटा क्षेत्र है, वहां पर अर्थव्यवस्था के बड़े क्षेत्र में अनुदान बहुत ही कम आकार में बांट दिया जाता है और किसानों को इसका पर्याप्त लाभ मिलता है। भारत में मामला इससे...

Tuesday, February 02, 2021

( 2 फरवरी 1905 - 6 मार्च 1982)

द फाउंटनहेड  १९४३ में अमेरिकी उपन्यासकार आयन रैंड द्वारा लिखित एक अंग्रेज़ी उपन्यास है जो कुछ समीक्षकों के अनुसार विश्व के सबसे प्रभावशाली उपन्यासों में से एक है। मई २००८ तक दुनिया भर में इसकी ६५ लाख से ज़्यादा प्रतियाँ बिक चुकी थीं और अभी भी हर वर्ष इसकी औसतन १ लाख प्रतियाँ बिकती हैं। दर्शन शास्त्र के नज़रिए से यह किताब एक बहुत ही महत्वपूर्ण व्यक्तिवादी कृति मानी जाती है जिसमें...

Saturday, January 30, 2021

पुण्यतिथि विशेष

महात्मा गांधी गाँवों को राष्ट्रीय उत्पादन की सबसे छोटी इकाई के रूप में देखते थे। महात्मा गांधी ने अपने दर्शन को व्यापक जनमानस तक पहुंचाने के लिए अध्यात्म से जोड़ा और राम राज्य का नाम दिया। गांधी के राम राज्य की परिकल्पना में गाँवों का संचालन लोकतांत्रिक तरीके से किये जाने की बात कही जाती थी, जहां शासक लोगों के हित के लिए काम करता था। सभी को समान अवसर प्रदान किए जाते थे, हिंसा की कोई जगह नहीं थी और जहाँ सभी धर्म और मान्यताओं का आदर किया जाता था। गांधी स्पष्ट करते थे कि...

Friday, January 29, 2021

पुण्यतिथि विशेषः

स्वतंत्र पार्टी के प्रमुख नेता एवं देश के उदारवादी एवं मुक्त आर्थिक नीतियों के समर्थक पीलू मोदी का जन्म 14 नवंबर 1926 में हुआ था। पीलू मोदी, सर होमी मोदी के पुत्र थे जो संयुक्त प्रांत के गवर्नर रह चुके थे। पीलू मोदी के भाई रूसी मोदी टिस्को के चेयरमैन थे। पीलू मोदी ने मुक्त आर्थियों नीतियों का जमकर समर्थन किया और देश की आर्थिक स्थिति में सुधार हेतु महत्वपूर्ण योगदान भी दिया। वे लोकसभा के सभासद रहे। वर्ष 1975 में आपातकालीन स्थिति के दौरान तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने उन्हे...

Thursday, January 21, 2021

विनम्र श्रद्धांजली (25 जून 1903 - 21 जनवरी 1950)

अंग्रेजी साहित्य के प्रेमचंद कहलाने वाले जॉर्ज ऑरवेल का जन्म 25 जून 1903 को बिहार के मोतिहारी में हुआ था। उनका असली नाम एरिक ऑर्थ ब्लेयर था। उनके पिता का नाम रिचर्ड डब्लू ब्लेयर था और वे ब्रिटिश राज की भारतीय सिविल सेवा के अधिकारी थे। ऑरवेल के जन्म के एक वर्ष बाद ही उनकी मां उन्हें लेकर इंग्लैंड लेकर चली गयीं। सेवानिवृत्त होने के बाद उनके पिता भी इंग्लैंड लौट गए और ऑरवेल दोबारा...

Saturday, January 16, 2021

- हम अमीर सरकार वाले गरीब देश के निवासी है
- गरीबी उन्मूलन के लिए लाई जाने वाली सरकारी योजनाएं गैरकानूनी और काला धन बनाने का स्त्रोत होती हैं
- यदि समाजवाद के प्रति हमारी सनक बरकार रहती है तो देश का भविष्य अंधकारमय ही रहेगा

16 जनवरी 1920 को मुंबई (तत्कालीन बॉम्बे) के पारसी परिवार में पैदा हुए पद्मविभूषण नानाभाई अर्देशिर पालखीवाला उर्फ नानी पालखीवाला उदारवादी विचारक, अर्थशास्त्री और उत्कृष्ट कानूनविद्...

Pages