शिक्षा के क्षेत्र की चुनौतियों और नवाचार पर आधारित होगी अंतर्राष्ट्रीय लघु-फिल्म प्रतिस्पर्धा ‘एडू-डॉक’

-  द्वितीय अंतर्राष्ट्रीय लघु फिल्म प्रतिस्पर्धा ‘एडू-डॉक’ की हुई औपचारिक घोषणा, प्रविष्ठियां भेजने की अंतिम तारीख 30 अक्टूबर
- 3 दिसंबर को प्रतिष्ठित ‘स्कूल च्वाइस नेशनल कांफ्रेंस’ के दौरान इंडिया हैबिटेट सेंटर में होगी स्क्रीनिंग, 3 श्रेष्ठ फिल्में होंगी पुरस्कृत

नई दिल्ली। देश के अग्रणी थिंकटैंक ‘सेंटर फॉर सिविल सोसायटी’ (सीसीएस) द्वारा दूसरे अंतर्राष्ट्रीय लघु-फिल्म प्रतिस्पर्धा ‘एडू-डॉक’ की औपचारिक घोषणा करते हुए इसके लिए प्रविष्ठियां आमंत्रित की गई हैं। एडू-डॉक के लिए इस वर्ष ‘एजुकेशनः चैलेंजेस, इनोवेशंस, सेलिब्रेशंस’ थीम निर्धारित किया गया है। प्रतिस्पर्धा में हिस्सा लेने के लिए 30 अक्टूबर तक लघु फिल्में भेजी जा सकती है। फिल्म प्रविष्ठियां श्रेष्ठ प्रविष्ठियों की स्क्रीनिंग इंडिया हैबिटेट सेंटर में 3 दिसंबर को आयोजित होने वाले ‘स्कूल च्वाइस नेशनल कांफ्रेंस’ के दौरान की जाएगी। फिल्में अधिकतम 5 मिनट की होनी चाहिए।
सोमवार को एडू-डॉक की औपचारिक घोषणा करते हुए सीसीएस के एसोसिएट डाइरेक्टर अमित चंद्र ने बताया कि आजीविका की जद्दोजहद पर आधारित ‘जीविकाः एशिया लाइवलीहुड डॉक्यूमेंट्री फेस्टिवल’ की सफलता के बाद हमने शिक्षा के क्षेत्र की चुनौतियों को उजागर करने और नवाचारों को प्रेरित करने के उद्देश्य से पिछले वर्ष अंतर्राष्ट्रीय ‘एडू-डॉक’ फिल्म प्रतिस्पर्धा का आयोजन की घोषणा की थी। अमित ने बताया कि इस प्रतिस्पर्धा की खास बात इसका तकनीकि केंद्रीत होने की बजाए विषय केंद्रीत होना है। इसमें भाग लेने के लिए प्रतिस्पर्धी के पास बस अच्छा विषय होना चाहिए। यदि किसी के पास शिक्षा के क्षेत्र की खास बातें दुनिया को दिखाने के लिए हों तो प्रतिस्पर्धी अपने मोबाइल से भी फिल्म शूट कर सकते हैं और इसे हमारे पास भेज सकते हैं। विशेषज्ञों द्वारा चयनित तीन श्रेष्ठ फिल्मों को पुरस्कृत भी किया जाएगा। एडू-डॉक के बाबत विस्तृत जानकारी www.jeevika.org/edudoc-2016 से प्राप्त की जा सकती है।

- प्रेस रिलीज