आज़ादी वी‌डियो

  • जैसा की भारत में अधिकतर जगह देखा जाता है, गन्दगी और प्रदूषण की समस्या राजस्थान में भी व्याप्त है. सार्वजनिक जगहों पर फ़ैली गन्दगी से बीमारियाँ और अन्य समस्याओं का खतरा बना रहता है.

  • मध्य प्रदेश के उजावनी में दूषित पानी पीने के पानी की वजह से निवासियों के लिए एक खतरनाक स्थिति उत्पन्न हो गयी है. सन 2001 के सेनसस आंकड़ों के अनुसार भारत के 39.8% घरों में साफ़ पेयजल नहीं आता है. उजावानी एक ऐसा ही गंभीर उदाहरण है. यहाँ के 200 परिवारों की पेयजल आपूर्ति के लिए सिर्फ एक हैण्ड पम्प और एक निजी कुआं है. एक सार्वजनिक कुआँ कुछ सालो पहले बुरे रख रखाव के कारण पहले ही बंद हो चुका है.

  • महाराष्ट्र के आंगनवाड़ी केंद्र भ्रष्टाचार और जातिवाद की वजह से बुरी तरह प्रभावित हैं. आंगनवाड़ी योजना केंद्र सरकार द्वारा छह साल से कम उम्र के गरीब बच्चो के स्वास्थ्य व कल्याण के लिए चलायी जाती है. हालांकि महाराष्ट्र के मालेगांव में आंगनवाड़ी केन्द्रों में 300 के बजाय सिर्फ 20 बच्चे ही भर्ती हैं और वे सभी उच्च जाति के हैं.

  • मेघालय के पश्चिमी गारोहिल में सेकंडरी (माध्यमिक) स्कूल में छात्रों की ड्रॉप आउट संख्या बहुत ज्यादा बनी हुई है. इन में से कई बच्चो को फीस भरने के लिए पर्याप्त पैसा ना होने की वजह से अपनी पढ़ाई छोडनी पड़ती है. भारत सरकार के शिक्षा का अधिकार कानून लागू करने के बाद भी ये स्थिति बनी हुई है.

Pages