नदी

ग्रामीण भारत में जल और जंगल दो सबसे ज्यादा मूल्यवान संसाधन हैं। लेकिन ये संसाधन इन इलाकों में रहने वाले लोगों के हाथ में नहीं हैं। ये राज्य के हाथ में हैं और राज्य ही इनका प्रबंधन करता है। जल और जंगल ग्रामीण समुदायों की बजाए देश की संपत्ति है। ये राष्ट्रीयकृत संसाधन हैं। इस राष्ट्रीयकरण ने ग्रामीणों को उनके बहुमूल्य आर्थिक संसाधन से वंचित कर दिया है। यह एक ऐतिहासिक अन्याय है। 
 

उत्तराखंड में जो भयानक नुकसान हमने पिछले सप्ताह देखा, उसके पीछे छिपे हैं कई सवाल, जिन्हें हम सिर्फ आपदा आने के समय ही पूछते हैं। बला टल जाती है, तो हम भी उन सवालों को पूछना बंद कर देते हैं। इसलिए हम आज तक समझ नहीं पाए हैं विकास और पर्यावरण का नाजुक रिश्ता और न ही हमारे शासकों ने समझने की कोशिश की है कि विकसित देशों में विकास के बावजूद पहाड़ क्यों सुरक्षित हैं, नदियां क्यों साफ हैं।

बचपन में हम सबने अज्ञानी नाविक व महाज्ञानी पंडित की कहानी अवश्य पढ़ी-सुनी होंगी। कहानी का मजमून कुछ यूं है कि एक महाज्ञानी पंडित जिन्हें अपने ज्ञान पर बड़ा घमंड था, यात्रा पर निकले। रास्ते में एक नदी पड़ी जिसे पार करने के लिए उन्हें नाव की जरूरत पड़ी। नाविक से किराया आदि तय करने के बाद वह नाव पर सवार हुए। नाव अभी कुछ ही दूर बढ़ी कि महाज्ञानी पंडित के ज्ञान ने हिलोरे मारना शुरू किया। उन्होंने नाविक से पूछा कि क्या वह उनकी पुस्तक में लिखे मंत्रों को पढ़ सकता है?