विनिवेश

यह अच्छा है कि वर्तमान मोदी सरकार विभिन्न समस्याओं के समाधान के लिए अपने पूर्ववर्ती सरकारों की भांति भावुकता की बजाए व्यावहारिकता के आधार पर फैसले लेती दिख रही है। वित्तमंत्री अरुण जेटली के राज्यसभा में दिया गया वह बयान जिसमें कि उन्होंने घाटे में चल रही 79 सार्वजनिक इकाईयों को निजी करने के विकल्प को खुला रखने की बात कही थी, इसका ज्वलंत प्रमाण है। स्थिति की गंभीरता को और अधिक स्पष्ट करते हुए उन्होंने यह भी कहा था कि यदि सिर्फ उक्त 79 इकाईयों में लगे निवेश की धनराशि को ही वसूल लिया जाए तो देश के प्रत्येक नागरिक को 1,30,000 रुपए प्राप्त हो सकते

आठवे दशक में कई वर्षों तक भारतीय अर्थव्यवस्था में सार्वजनिक क्षेत्र की प्रासंगिकता पर बहस होती रही। यह माना गया कि आजादी के बाद के शुरूआती वर्षों में निजी क्षेत्र के पास लोहा,इस्पात,भारी मशीनरी,मशीन टूल्स और रेलवे वैगन या बड़े बांध,बिजली उत्पादन, ट्रांसमिशन और वितरण संयंत्र में निवेश करने के लिए संसाधन नहीं थे।केवल सरकार ही देश या विदेश से ऐसे संसाधन जुटा सकती थी। यही बात एयरलाइन्स ,एयरपोर्ट,और लक्जरी होटलों पर भी लागू होती थी। लेकिन 1980-81 में भारत की बचत दर 18.4 प्रतिशत तक पहुंच गई और उसकी विदेशी निवेश को आकर्षित करने की क्षमता भी बढ़ी।