M A Venkata Rao

गैर-समाजवादी विचारों और उदारवाद पर आधारित वैकल्पिक सामाजिक-आर्थिक नीति को लेकर जो प्रतिसाद मिला है, वह इस बात का सबूत है कि श्री लोतवाला जैसे उदारवादियों का उनमें यकीन कायम है। श्रीमती लोतवाला साम्यवादी नियंत्रण को रास आने वाले सामूहिकतावाद की दिशा में ले जाने वाले जीवन के तमाम क्षेत्रों में रूझानों और संस्कृति को जानती हैं। रूझानों का यह प्रवाह सोवियत संघ या चीन जैसे साम्यवादी और तथाकथित जनवादी लोकतांत्रिक देशों तक ही सीमित नहीं है। यह इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड की लेबर पार्टी और स्वीडन, डेनमार्क जैसे स्कैंडिनेवियाई देशों में आम है। अमेरिका तक में टीवी