शिकारी

वाघ बनाम आदिवासी – अनुसूचित जनजाति (वन अधिकार मान्यता) बिल 2005 पर बहस को इसी रूप में पेश किया जा रहा है। आप अगर वाघ के पक्ष में हैं तो आपको आदिवासियों के वन अधिकार को मान्यता नहीं देनी चाहिए। और यदि आप आदिवासियों के पक्ष में हैं तो इसका मतलब यह है कि वाघ आपके लिए महत्वपूर्ण नहीं हैं। यह पूरीतरह से झूठी दुविधा है।

उत्तराखंड के विश्व स्तरीय कार्बेट पार्क पर एक बार फिर शिकारियों की शिकंजा कसता जा रहा है। पिछले दस महीनों में बाघों के शिकार की घटनाएं निरंतर अंतराल पर सामने आई हैं। इतना नहीं नहीं, बल्कि बाघों की अन्य कारणों से मौत का सिलसिला भी जारी है। इस वर्ष अभी तक दस बाघों की मौत हो चुकी है। ऐसे में यह सवाल उठना स्वाभाविक है कि आखिर वन विभाग समेत बाघों के संरक्षण में जुटी अन्य एजेंसियों की योजनाएं कारगर साबित क्यों नहीं हो रही हैं।