Bhatta Parsaul

कुछ दिन पहले उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा का एक छोटा सा गांव भट्टा परसौल तमाम न्यूज चैनलों पर छाया रहा। फिल्म पीपली लाइव के पीपली गांव की तरह यहां मीडिया का जमावड़ा था। भट्टा परसौल में भी वहीं देखने को मिल रहा था जो हमने फिल्म में देखा था। फिल्म की ही तरह भट्टा परसौल के केन्द्र में भी किसान की दशा थी। पीपली लाइव और भट्टा परसौल दोनो के ही केन्द्र में सरकारी योजनाओं और नीतियों से त्रस्त, बेहाल और लाचार किसान था और है।

Category: 

जब बात किसानों से भूमि अधिग्रहण की आती है तो राजनीतिक दलों और उद्योगों के बीच होड़ शुरू हो जाती है। जब किसान की भूमि अधिग्रहीत की जाती है तो वह जीत की स्थिति में कभी नहीं होता है, चाहे वह कांग्रेस शासित राज्य हो या भाजपा शासित। ग्रेटर-नोएडा में भूमि अधिग्रहण का किसानों द्वारा किए जा रहे विरोध का समर्थन करने वाली भाजपा भी इससे कुछ अलग नहीं है।

भारतीय किसान यूनियन के प्रमुख राकेश टिकैत का कहना है कि राजस्थान की कांग्रेस सरकार द्वारा जालौर में किसानों की भूमि अधिग्रहीत करने के एवज में उन्हें मात्र 6.8 पैसा प्रति वर्ग मीटर का मुआवजा दिया जा रहा है।

Category: