यूपीए सरकार

मनरेगा को लेकर कैग ने जो कुछ कहा है वह वाकई चौंकाने वाला है। कैग की रिपोर्ट के मुताबिक इस स्कीम में 13 हजार करोड़ रूपए की धांधली हुई है और इसका लाभ भी जरूरतमंदों तक नहीं पहुंच सका है। यूपीए सरकार अपनी उपलब्धियों में इसे सबसे उपर रखती है। कुछ समय पहले कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने इसकी जमकर तारीफ की थी और कहा था कि इससे दूसरी हरित क्रांति आ सकती है। जाहिर है, कैग की इस रिपोर्ट से यूपीए सरकार को धक्का लगेगा। वह यह कहकर अपना बचाव करने की कोशिश करेगी कि इस स्कीम को अमल में लाने की वास्तविक जवाबदेही राज्य सरकारों की है, मगर कैग की रिपोर्ट में केंद्र की भी आलोचना

बीटल्स का एक गीत है, 'कैंट बाय मी लव' (अपने लिए मैं प्यार तो नहीं खरीद सकता)। इसी तर्ज पर इस साल के बजट की थीम है, 'अपनी पार्टी के लिए मैं चुनाव तो नहीं खरीद सकता'। वित्तमंत्री आम तौर पर चुनाव से ठीक पहले वाले बजटों में सब्सिडी और कर्ज माफी के रूप में खुले हाथों रेवड़ियां बांटते हैं। ऐसे उपाय वोट दिलाने में ज्यादा कारगर नहीं होते, फिर भी वित्तमंत्री अपनी तरफ से उम्मीद नहीं छोड़ते। बहरहाल, वित्तमंत्री पलनियप्पन चिदंबरम ने अभी जो चुनावी बजट पेश किया है, उसमें उन्होंने मुफ्त का चंदन घिसने से भरसक परहेज किया है। वित्तीय मितव्यय को ध्यान में रखते हुए उन्होंने वोट हासिल करने के

Author: 
स्वामीनाथन अय्यर