राष्ट्रवाद

मुमकिन है कि केन गोरिन और प्रवीन खंडेलवाल ने कभी एक-दूसरे का नाम भी नहीं सुना हो। उनका मिलना भी मुश्किल है। लेकिन दोनों में एक बात समान है- उन्हें विदेशी निवेशक पसंद नहीं हैं। हालांकि दोनों का यह रवैया बिल्कुल उलट अनुभवों के कारण है। गोरिन, अमेरिका के मियामी स्थित एक कार डीलरशिप के मालिक हैं, जो वैश्विक लक्जरी ब्रांड्स की विशेषज्ञ मानी जाती है। शायद आपको इस बात से उनकी याद आए कि उन्होंने अमेरिका में जगुआर कार डीलरों का प्रतिनिधित्व किया था। वह 2007 में भारतीय अखबारों की सुर्खियों में छाए हुए थे क्योंकि उन्होंने जगुआर और लैंड रोवर (जेएलआर) की बिक्री टाटा या महिंद्रा ऐंड मह