तरक्की

हाल में हुए विधानसभा चुनाव में आम आदमी महंगाई की ही शिकायत कर रहा था। टीवी पर लोग आलू, प्याज, घी और दाल की कीमतें बताते नजर आते थे। हालांकि चुनावी पंडित हमेशा का चुनाव राग ही गा रहे थे, लेकिन कांग्रेस की हार में भ्रष्टाचार से ज्यादा महंगाई का हाथ रहा। हाल में महंगाई कुछ कम हुई हैं, लेकिन सभी दलों के लिए यह चेतावनी है कि आम आदमी महंगाई के दंश को भूलने वाला नहीं है और यह आगामी आम चुनाव में नजर आएगा।

Author: 
गुरचरण दास

तेलंगाना के गठन के फैसले के साथ हमने जो शुरू किया है, वह इतना  खतरनाक है कि यदि इसे अभी नहीं रोका गया तो हम आने वाले वक्त में बहुत पछताएंगे। धमकाकर नया राज्य बनाने के लिए मजबूर करने की कोशिश के नतीजे अच्छे नहीं होंगे।

 

राजनीति, क्रिकेट सहित विभिन्न क्षेत्रों में सुधार के लिए निंदा अभियान चलाने की बजाय ईमानदारी से प्रयास करने की जरूरत। हर मोड़ पर जरूरी सरकारी अनुमति की एवज में हमारे सभी दलों ने जब भी मौका मिला, आगे बढ़ने को आतुर उद्योग जगत की बांहें मरोड़ीं और अपने दलीय तथा निजी कोषों को भरने के लिए धन दुहा है।

जाने माने अर्थशास्त्री व स्तंभकार गुरचरन दास ने देश में शहरी विकास का पर्याय बन चुके गुड़गांव शहर की वर्तमान तस्वीर के लिए निजी प्रयासों को जिम्मेदार बताते हुए उद्यमियों और उद्योगपतियों के प्रयासों की जमकर तारीफ की है। उन्होंने विकास के इस क्रम को अपनी नई किताब “इंडिया ग्रोज एट नाइट” में बतौर अध्याय शामिल करते हुए देश में निजी प्रयासों के तहत विकास की अवधारणा की जरूरत पर बल दिया है। किताब में फरीदाबाद व गुड़गांव के विकास की तुलनात्मक विवेचना करते हुए गुरचरण ने कहा है कि कुछ दशक पूर्व तक गुड़गांव उजाड़ और विकास से कोसो दूर छोटा सा शहर हुआ करता था जबकि फरीदाबाद का सरकार द्वारा योजनाबद्ध तरीके से