कमेन्टरी - स्वामीनाथन एस. ए. अय्यर

स्वामीनाथन एस. ए. अय्यर

इस पेज पर स्वामीनाथन एस. ए. अय्यर के लेख दिये गये हैं। ये लेख शीर्ष बिजनेस अखबारों में स्वामीनॉमिक्स कॉलम में प्रकाशित होते हैं।

पुरा लेख पढ़ने के लिये उसके शीर्षक पर क्लिक करें।

अधिक जानकारी के लिये देखें: http://swaminomics.org

नरेंद्र मोदी के फैंस चाहते हैं कि वह गुजरात का विकास मॉडल पूरे देश में लागू करें। उन्हें लगता है कि सख्त दिखने का जोखिम उठा सकने वाले मोदी ऐसे फैसले लेने में कोई कोताही नहीं बरतेंगे, जो फौरी तौर पर भले तकलीफदेह लगें, लेकिन आगे चलकर अच्छे नतीजे देंगे। उन्हें भरोसा है कि चुनाव प्रचार के दौरान किए गए वादों के मुताबिक वह हिंदुस्तानियों को खैरात पर पलने वाली जमात नहीं बल्कि तेज आर्थिक विकास से उपजे अवसरों का आकांक्षी समुदाय मानकर चलेंगे। लेकिन अफसोस कि पिछले हफ्ते लिए गए मोदी के तमाम फैसले...
Published on 2 Jul 2014 - 19:28
भारत की आर्थिक विकास दर 9 फीसदी सालाना से घटकर 4.5 फीसदी हो जाने की एक बड़ी वजह यह है कि इन्क्लूसिव ग्रोथ के नाम पर न्यायपालिका और विधायिका ने पूरी तरह जायज कारोबार को भी बेहद मुश्किल बना दिया है। अभी एक नई कोयला खदान शुरू करने में 12 साल लग जाते हैं। यह इन्क्लूसिव ग्रोथ नहीं है। इसे ठहराव या गतिहीनता कहते हैं। नए भूमि अधिग्रहण कानून का मकसद है किसानों से जल्दी और विधिसम्मत तरीके से जमीन लेना।
 
...
Published on 28 Apr 2014 - 19:52
चुनाव में मोदी की जीत की संभावना भारतीय बॉन्डों और शेयरों में डॉलरों की बाढ़ का सबब बन गई है। इसके चलते रुपया मजबूत हुआ है और डॉलर के साथ उसका विनिमय मूल्य 60 रुपया प्रति डॉलर की दहलीज से भी नीचे आ गया है। रुपए की यह मजबूती अगर निर्यात में उछाल से पैदा होती तो यह सभी के लिए खुशी की बात थी। लेकिन हकीकत इससे अलग है। रुपया चढ़ने की मौजूदा वजह मोदी की जीत पर लगे सट्टे में पैसा झोंके जाने जैसी है। इस तरीके से मजबूत हुआ रुपया भारत की निर्यात संभावनाओं में पलीता लगा देगा और देश को इससे कुछ भी...
Published on 7 Apr 2014 - 17:44

Pages