दादा भाई नौरोजी

व्यक्तित्व एवं कृतित्व

[जन्म 1824 निधन 1917]

उन्हें भारतीय राजनीति का ग्रैंड ओल्डमैन कहा जाता है। वे पहले भारतीय थे जिन्हें एलफिंस्टन कॉलेज में बतौर प्रोफेसर के रूप में नियुक्ति मिली। बाद में यूनिवर्सिटी कॉलेज, लंदन में उन्होंने प्रोफेसर के रूप में अपनी सेवाए दीं। उन्होंने शिक्षा के विकास, सामाजिक उत्थान और परोपकार के लिए बहुत-सी संस्थाओं को प्रोत्साहित करने में योगदान दिया, और वे प्रसिद्ध साप्ताहिक रास्ट गोफ्तर के संपादक भी रहे। वे अन्य कई जर्नल से भी जुडे़ रहे। बंबई में एक पहचान कायम करने के बाद वे इंग्लैण्ड गए और वहॉ भारतीय अर्थशास्त्र और राजनीतिक पुनरुद्धार के लिए आवाज बुलंद की और हाउस ऑफ कॉमंस के लिए चुने गए।

उन्होंने 1906 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन की अध्यक्षता की। उनकी महान कृति “पॉवर्टी ऐंड अन-ब्रिटिश रूल इन इंडिया” राष्ट्रीय आंदोलन की बाइबल कही जाती है। वे महात्मा गांधी के प्रेरणा स्त्रोत थे।