पेयजल समस्या से जूझते ग्रामीण

मध्य प्रदेश के उजावनी में दूषित पानी पीने के पानी की वजह से निवासियों के लिए एक खतरनाक स्थिति उत्पन्न हो गयी है. सन 2001 के सेनसस आंकड़ों के अनुसार भारत के 39.8% घरों में साफ़ पेयजल नहीं आता है. उजावानी एक ऐसा ही गंभीर उदाहरण है. यहाँ के 200 परिवारों की पेयजल आपूर्ति के लिए सिर्फ एक हैण्ड पम्प और एक निजी कुआं है. एक सार्वजनिक कुआँ कुछ सालो पहले बुरे रख रखाव के कारण पहले ही बंद हो चुका है.

पर पानी की किल्लत ही यहाँ की एकमात्र परेशानी नहीं चूंकि जो भी पानी उपलब्ध है वो दूषित है जिस वजह से प्रायः डायरिया और हैजा जैसी बीमारियाँ हो जाती हैं. राकेश खन्ना यहाँ बता रहे हैं की पानी की समस्या गर्मियों में और भी विकराल ही जाती है जब कुएं और हैण्ड पम्प भी सूख जाते हैं और निवासियों को दूसरे इलाकों में जाकर पानी लाना पड़ता है.

(साभार: इंडिया अनहर्ड)

www.videovolunteers.org

Its not mere drinking water problem

Even after the 67+ years of Independence we in India are not able to provide even the basic necessities of living to our people, specifically what we call as "Bharat". The leaders of our nation keep promissing to innocent people for making adequate provision of all these facilities and delibrately didn't try to fulfill this gap between "Bharat and India". And just think it also that we people are such fools that we at our societal level never-ever try to initiate the change. Still suffering with the problem of regionalism, casteism, religionism etc. to name few. If we really want to see our future generations to live with dignity, with security and proper access to the necessities of life, and want to see our nation becoming the developed nation, first we have to overcome all such major problems as specified above as well as we must addopt "collective wisdom". Before blaming others, first we have to realise our own contribution to the societal damage, and all what is wrong. This is the only way to make an improvement and to ensure egalitarian society for what our great leaders fought with the British empire...