ब्लॉग

सोमवार, जनवरी 19, 2015
10885523_326866397516875_4239258727323227234_n_0.jpg
समाजवाद के 6 चमत्कार
 
1- किसी के पास काम नहीं, लेकिन कोई बेरोजगार नहीं 
2- कोई काम नहीं करता, लेकिन पैसे सभी को मिलते हैं
3- पैसे सभी को मिलते हैं, लेकिन इस पैसे से खरीदने के लिए कुछ भी नहीं होता
4- कोई कुछ...
मंगलवार, जनवरी 13, 2015
Book Launch, Aman, Prem va Azadi (2).jpg
गरीब पड़ोसी की बजाए अमीर पड़ोसी का होना हमेशा अच्छा होता है। लेकिन भारत और चीन के कम ही अर्थशास्त्री इस सिद्धांत से इत्तेफाक रखते हैं। आश्चर्यजनक ढंग से दोनों देश एक दूसरे की प्रगति को लेकर संशय की भावना रखते हैं। दोनों देशों को चाहिए कि एक दूसरे की प्रगति को सकारात्मक ढंग से लें और उसका हिस्सा बनें। उपरोक्त विचार एटलस इकोनॉमिक रिसर्च फाउंडेंशन के वाइस प्रेसिडेंट डॉ. टॉम जी. पॉमर ने व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि यदि दोनों देश यदि एक दूसरे की प्रगति में सहयोग कर उसका हिस्सा बनते हैं तो दोनों देशों की जनता भी फायदे में रहेगी।
...
शुक्रवार, जनवरी 09, 2015
sanjay garg.jpg
राजस्थान के छोटे से गांव का राजुराम । बड़ी मुश्किल से अपनी पढाई पूरी की और बीएड करने के लिए जब पेसो का बंदोबस्त नहीं हुआ तो बुढे पिता ने अपना खेत बेच कर पेसो का इंतजाम किया । इस आस में कि सरकारी नोकरी लग जायेगी तो परिवार को दो जून की रोटी नसीब हो जायेगी । लेकिन बदकिस्मती से खूब कोशिस करने के बावजूद भी नोकरी नहीं मिल पाई । तब तक विवाह भी हो गया और दो लडकिया और एक लड़का भी हो गया ।
 
बेरोजगारी का दंश झेलते राजुराम की पत्नी ने बच्चों का...
मंगलवार, जनवरी 06, 2015
Thomas Sowell.jpg
कितने आश्चर्य की बात है कि जो लोग सोचतें हैं कि वे डॉक्टर, अस्पताल और दवाईयों का खर्च वहन नहीं कर सकते हैं, वे ही लोग ये सोचतें हैं कि वे डॉक्टर, अस्पताल, दवाईयां और इसकी देखरेख के लिए सरकारी अफसरशाही के खर्च को वहन कर सकते हैं..
- थॉमस सोवेल
सोमवार, दिसम्बर 15, 2014
Dammed_0.jpg
Char_0.jpg
- 'चार' और 'पद्मिनी माय लव' को सर्वश्रेष्ठ डॉक्युमेंट्री अवार्ड, तिची गोश्ता व सिल्वर गांधी को भी मिली सराहना
- विजेता डॉक्यूमेंट्री निर्माताओं का काठमांडू में होगा सम्मान
 
नई दिल्ली। आजीविका के लिए आम आदमी की 'खास' जद्दोजहद को दुनिया के समक्ष उजागर करने के उद्देश्य से सेंटर फॉर सिविल सोसायटी द्वारा प्रत्येक वर्ष आयोजित किए जाने...
मंगलवार, अक्टुबर 07, 2014
Osho Rajneesh.jpg

बच्चा पेड़ पर चढ़ने की कोशिश कर रहा है; तुम क्या करोगे? तुम तत्काल डर जाओगे--हो सकता है कि वह गिर जाए, हो सकता है वह अपना पैर तोड़ ले, या कुछ गलत हो जाए। और तुम्हारे भय से तुम भागते हो और बच्चे को रोक लेते हो। यदि तुमने जाना होता कि पेड़ पर चढ़ने में कितना आनंद आता है, तुमने बच्चे की मदद की होती ताकि बच्चा पेड़ पर चढ़ना सीख जाता! और यदि तुम डरते नहीं हो तो उसकी मदद करो, जाओ और उसे सिखाओ। तुम भी उसके साथ चढ़ो! उसकी मदद करो ताकि वह गिरे नहीं। तुम्हारा डर ठीक है--यह तुम्हारे प्रेम को दर्शाता है कि हो सकता है कि बच्चा गिर जाए, लेकिन बच्चे को पेड़...

सोमवार, सितंबर 01, 2014
10557199_370603963093619_3235391665263491743_n.jpg

"यदि आप ऐसे राजनेताओं को वोट देते आ रहे हैं जो आपको मुफ्त (दूसरों के खर्च पर) चीजें देने का वादा करते हैं, तब जब वे आपके पैसे से स्वयं सहित दूसरों को चीजें बांटते हैं, आपके पास शिकायत करने का अधिकार नहीं रह जाता है"

- थॉमस सोवेल

बुधवार, अगस्त 27, 2014
PORTUGAL and drugs.png

विगत कुछ समय से पंजाब में ड्रग्स के सेवन करने वालों की संख्या में हुई वृद्धि ने शासन प्रशासन सहित स्थानीय जनता के माथे पर चिंता की लकीरें पैदा कर दी है। तमाम प्रयासों के बावजूद वहां ड्रग्स का सेवन करने वालों की संख्या में कमी नहीं आ पायी है। यहां तक कि देशभर में पिछली कांग्रेस सरकार के खिलाफ माहौल खड़ा करने में सफल रही भारतीय जनता पार्टी को पंजाब में करारी शिकस्त झेलनी पड़ी। यह घटना बताने के लिए काफी थी कि लोगों के लिए यह मुद्दा कितना महत्वपूर्ण था।

लेकिन क्या आपको पता है कि दो...

मंगलवार, अगस्त 26, 2014
no subsidy.jpg

जिन लोगों को ये लगता हो कि किसानों की समस्या का एकमात्र समाधान सब्सिडी है, तो उन्हें न्यूजीलैंड देश से कुछ सबक सीखना चाहिए..। न्यूजीलैंड एकमात्र देश है जो दुनिया का एकमात्र विकसित देश है जहां कृषि कार्य के लिए कोई सब्सिडी नहीं दी जाती है। वास्तव में, कृषि क्षेत्र से सब्सिडी हटाने के बाद वहां इस क्षेत्र में जबरदस्त प्रगति  हुई। आज न्यूजीलैंड द्वारा विश्व को किए जाने वाले कुल निर्यात में दो तिहाई हिस्सा कृषि उत्पादों का है..

- स्टूडेंट्स फॉर लिबर्टी

सोमवार, अगस्त 11, 2014
RTE.jpg
शिक्षा का अधिकार कानून के तहत आठवीं कक्षा तक के बच्चों को फेल नहीं किया जा सकता है. ऐसे में दिल्ली के सरकारी स्कूलों में हालत इतनी खराब है कि जब वही बच्चे नौवीं कक्षा में पहुंचते हैं, तो उनमें से 50 फीसदी फेल हो जाते हैंः आजतक
 
बजट प्राइवेट स्कूलों के राष्ट्रव्यापी संगठन, नेशनल इंडिपेंडेंट स्कूल असोसिएशन (निसा) के अध्यक्ष आर.सी. जैन द्वारा सूचना के अधिकार (आरटीआई) के तहत जुटाई की गई सूचना के मुताबिक दिल्ली के...