ब्लॉग

Thursday, February 12, 2015
जिस "स्वस्थ्य सरकारी नीति के सात सिद्धांतों'' की हम यहाँ चर्चा करने जा रहे हैं, वे मुक्त अर्थव्यवस्था के आधार स्तंभ हैं। उनमें से प्रत्येक किसी विशेष मुद्दे पर किस तरह लागू होता है, इस संबंध में हमारी राय अलग-अलग हो सकती है, पर ये सिद्धांत अपने आप में स्थापित सत्य हैं। इन्हें मैंने नहीं बनाया है। बल्कि मैंने इन्हें सिर्फ एक जगह इकट्ठा किया है। ऐसा नहीं है कि मुक्त अर्थ व्यवस्था के आधार स्तंभ सिर्फ ये ही हैं या सिर्फ यही सत्य है, लेकिन ये एक संतुलित और सम्यक विचार जरूर प्रस्तुत करते हैं।...
Monday, February 02, 2015
गरीबी उन्मूलन का मुद्दा दुनियाभर की सभी साम्यवादी व समाजवादी सरकारों की प्राथमिकता में होती है। दूरदर्शिता व अच्छी नीति अपनाने की बजाए वे अपनी 'अच्छी' नियत का हवाला देती हैं। अपने आप को लोक कल्याणकारी सरकार घोषित करने के चक्कर में सरकारें अक्सर गरीबों का नुकसान करने लगती हैं। आम तौर पर सरकारें गरीबी उन्मूलन के लिए मुफ्त भोजन, मुफ्त आवास, मुफ्त शिक्षा, मुफ्त स्वास्थ्य सेवाएं आदि आदि प्रदान करना शुरू कर देती हैं। इनमें से अधिकांश योजनाएं या तो फंड के आभाव में दम तोड़ देती हैं या फिर जनता पर...
Friday, January 30, 2015

सरकारी नियंत्रण फर्जीवाड़े़ और काला बाजारी को बढ़ावा देता है। यह सत्य का दमन करता है और वस्तुओं की गहन कृत्रिम कमी पैदा करता है। यह लोगों को कहीं का नहीं छोड़ता है और उन्हें उपक्रमण से वंचित करता है। यह लोगों को स्वावलंबी होने के गुणों का नाश करता है। जाहिर तौर पर, सरकार की बढ़ती शक्तियां मुझे भयभीत करती है। भले ही यह लोगों को शोषित होने से बचाकर यह अच्छा काम करती है, लेकिन व्यैक्तिकता (निजी), जो कि सभी उन्नतियों के हृदय में वास करती है,...

Wednesday, January 28, 2015
- पेंसिल्वेनिया यूनिवर्सिटी द्वारा टॉप ग्लोबल थिंकटैंक सेंटर्स की सूची जारी, टॉप 50 में अकेला भारतीय
 
-  चीन, भारत, जापान और कोरिया के 50 टॉप थिंकटैंक सेंटर्स की सूची में 14वां स्थान
 
नई दिल्ली। अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त थिंकटैंक सेंटर...
Monday, January 19, 2015
समाजवाद के 6 चमत्कार
 
1- किसी के पास काम नहीं, लेकिन कोई बेरोजगार नहीं 
2- कोई काम नहीं करता, लेकिन पैसे सभी को मिलते हैं
3- पैसे सभी को मिलते हैं, लेकिन इस पैसे से खरीदने के लिए कुछ भी नहीं होता
...
Tuesday, January 13, 2015
गरीब पड़ोसी की बजाए अमीर पड़ोसी का होना हमेशा अच्छा होता है। लेकिन भारत और चीन के कम ही अर्थशास्त्री इस सिद्धांत से इत्तेफाक रखते हैं। आश्चर्यजनक ढंग से दोनों देश एक दूसरे की प्रगति को लेकर संशय की भावना रखते हैं। दोनों देशों को चाहिए कि एक दूसरे की प्रगति को सकारात्मक ढंग से लें और उसका हिस्सा बनें। उपरोक्त विचार एटलस इकोनॉमिक रिसर्च फाउंडेंशन के वाइस प्रेसिडेंट डॉ. टॉम जी. पॉमर ने व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि यदि दोनों देश यदि एक दूसरे की प्रगति में सहयोग कर उसका हिस्सा बनते हैं तो दोनों...
Friday, January 09, 2015
राजस्थान के छोटे से गांव का राजुराम । बड़ी मुश्किल से अपनी पढाई पूरी की और बीएड करने के लिए जब पेसो का बंदोबस्त नहीं हुआ तो बुढे पिता ने अपना खेत बेच कर पेसो का इंतजाम किया । इस आस में कि सरकारी नोकरी लग जायेगी तो परिवार को दो जून की रोटी नसीब हो जायेगी । लेकिन बदकिस्मती से खूब कोशिस करने के बावजूद भी नोकरी नहीं मिल पाई । तब तक विवाह भी हो गया और दो लडकिया और एक लड़का भी हो गया ।
 
...
Tuesday, January 06, 2015
कितने आश्चर्य की बात है कि जो लोग सोचतें हैं कि वे डॉक्टर, अस्पताल और दवाईयों का खर्च वहन नहीं कर सकते हैं, वे ही लोग ये सोचतें हैं कि वे डॉक्टर, अस्पताल, दवाईयां और इसकी देखरेख के लिए सरकारी अफसरशाही के खर्च को वहन कर सकते हैं..
- थॉमस सोवेल

Pages