ब्लॉग

Thursday, April 27, 2017

शिक्षक हूँ, पर ये मत सोचो,
बच्चों को सिखाने बैठा हूँ..
मैं डाक बनाने बैठा हूँ ,
मैं कहाँ पढ़ाने बैठा हूँ।
कक्षा में जाने से पहले
भोजन तैयार कराना है...
ईंधन का इंतजाम करना
फिर सब्जी लेने जाना है।
गेहूँ ,चावल, मिर्ची, धनिया
का हिसाब लगाने बैठा हूँ,
मैं कहाँ पढ़ाने बैठा हूँ ...
कितने एस.सी. कितने बी.सी.
कितने जनरल दाखिले हुए,
कितने आधार बने अब तक
कितनों के खाते खुले हुए
बस यहाँ कागजों में उलझा
निज साख...

Thursday, April 06, 2017
कानून बनाने का उद्देश्य क्या होता है और वास्तव में कानून क्या करता है, इस विषय को बेहद हल्के फुल्के किंतु सटीक ढंग से चित्रित किया है The Hindu अखबार के कार्टूनिस्ट सुरेंद्र ने.. अवश्य देखें और अपनी प्रतिक्रिया दें...
Thursday, March 02, 2017

 

सुनो सुनो... विधायक जी कह रहे हैं कि ये ही मिल कर मुख्यमंत्री चुनते हैं

 

साभारः काजल कुमार

 

Wednesday, March 01, 2017
जनसंख्या को सभी समस्याओं का कारण मानने और चीन जैसी कड़ी नीति का मांग करने वाले लोगों को यह खबर अवश्य पढ़नी चाहिए.. http://bit.ly/2mD5QI9 बाद में एक बार http://azadi.me/population_boon_not_bane इसे भी पढ़ना चाहिए...
Thursday, February 02, 2017
चुनाव आ गए क्या..
Saturday, January 07, 2017

स्कूलों से संबंधित नीतियों के निर्धारण की प्रक्रिया के दौरान अनऐडेड बजट स्कूलों के प्रतिनिधित्व को सुनिश्चित करने की मांग को लेकर बजट स्कूल एसोसिएशनों के अखिल भारतीय संगठन 'नेशनल इंडिपेंडेंट स्कूल्स अलायंस' (निसा) का एक प्रतिनिधिमंडल बृहस्पतिवार को केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय पहुंचा। निसा प्रेसिडेंट कुलभूषण शर्मा के नेतृत्व में मानव संसाधन मंत्रालय पहुंचे बजट स्कूल एसोसिएशनों के विभिन्न राज्यों के प्रतिनिधियों ने सेक्रेटरी, डिपार्टमेंट ऑफ स्कूल एजुकेशन एंड लिटरेसी; अनिल स्वरूप से मुलाकात की...

Monday, December 26, 2016

- प्राइवेट अनएडेड स्कूलों ने प्रिंसिपल की नियुक्ति में सीबीएसई के हस्तक्षेप को बताया स्वायतता से खिलवाड़
- बजट प्राइवेट स्कूलों के लिए अलग एजुकेशन बोर्ड की मांग होगी तेज

अनएडेड बजट प्राइवेट स्कूलों की अखिल भारतीय संस्था नेशनल इंडिपेंडेंट स्कूल्स एसोशिएशन (निसा) ने सीबीएसई द्वारा प्रिंसिपलों की नियुक्ति प्रक्रिया में शामिल होने निजी स्कूलों की स्वायतता से खिलवाड़ बताया है। निसा पदाधिकारियों ने सीबीएसई की मंशा पर सवाल उठाते हुए इसे अवांछनीय और अनुचित कदम बताया है। इसके साथ ही...

Thursday, December 22, 2016

स्कूलों के लिए जरूरी है सरकारों से आजादी

हाल में राज्यों के शिक्षा मंत्रियों की बैठक में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सरकारी स्कूलों की स्थिति पर अपना दर्द बयान किया। उन्होंने बताया कि उनकी मां महाराष्ट्र के दूर-दराज के एक गांव में सरकारी स्कूल टीचर थीं। गांव के लोग स्कूल चलाने में काफी सहयोग करते थे। कुछ लोग पानी की व्यवस्था करते, कुछ आकर साफ-सफाई कर जाते, कोई अन्य तरीकों से मदद करता था।...

Pages