दिल्ली वालों को माफ नहीं करेंगी आशा भोंसले

asha and teejan bai

दिलवालों की नगरी मानी जाने वाली दिल्ली ने प्रख्यात पार्श्व गायिका आशा भोंसले का दिल तोड़ दिया। यहां आयोजित एक समारोह के दौरान दिल्ली के अंग्रेजीदां लोगों ने उन्हें बेहद उदास और निराश कर दिया और वह कहने को मजबूर हो गई कि 'पहली बार पता चला दिल्ली में केवल अंग्रेजी ही बोली जाती है।' आलम यह रहा कि आशा ताई द्वारा इस बाबत ईशारा करने के बावजूद मंच संचालक व आयोजक उनकी इच्छा को भांपने में असफल रहे। परिणाम यह हुआ कि कार्यक्रम के शुरुआत में काफी खुश दिख रही आशा ताई की भाव-भंगिमाएं गंभीर होती गई और समापन होते होते उनका मूड भी खराब हो गया। यहां तक कि आशा ने आयोजकों द्वारा अपने गाए किसी गीत के गुनगुनाने का निवेदन तक ठुकरा दिया। मौका था, दिल्ली में केवल अंग्रेजी ही बोली जाती है के विमोचन का।

विगत दिनों राजधानी में संगीत को समर्पित लिम्का बुक आफ रिकार्ड्स के 23 वें संस्करण के विमोचन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान प्रख्यात पार्श्व गायिका आशा भोंसले व पाण्डवानी गायिका तीजन बाई बतौर मुख्य अतिथि मौजूद थीं। लेकिन मंच संचालन सहित पूरे कार्यक्रम के दौरान आंग्रेजी की भरमार व एक शब्द भी हिंदी न पाकर बहुत देर से खामोश आशा भोंसले का धैर्य उस वक्त जवाब दे गया जब मशहूर लोकगायिका तीजन बाई ने कहा कि 'यहां का माहौल देखकर मैं डरी हुई हूं, क्योंकि मुझे अंग्रेजी बोलना नहीं आता।'

अपनी मातृभाषा की उपेक्षा से छलके दो महान कलाकारों के दर्द से बेपरवाह दिल्ली का नवधनाढ्य तबका इसके बाद भी लगातार चबा-चबा कर अंग्रेजी ही उगलता रहा। शुरू में बेहद खुश दिख रहीं आशा कार्यक्रम के आगे बढ़ने के साथ-साथ निराश होती चली गईं। तीजन बाई के बाद जब आशा भोंसले को बोलने के लिए माइक दिया गया तो उनके दिल का दर्द शब्दों में उतर आया।

उन्होंने कहा, ''पहली बार पता चला कि दिल्ली में केवल अंग्रेजी ही बोली जाती है। अभी लंदन से लौटी हूं। अगर वहां होती तो इसे माफ करती, लेकिन दिल्ली, यहां तो जिसे देखो वही अंग्रेजी बोल रहा है।'' अपने दुख को हंसी में उडता देख, आशा जी फिर बोल पडीं, ''शुक्रिया अदा करती हूं, आप लोग हिंदी समझ तो रहे हैं न!'' जिन आशा भोंसले ने 13हजार से अधिक गाने गाए हैं, सबसे ज्‍यादा गाने की रिकॉर्डिंग के लिए हाल ही में गिनीज बुक वर्ल्‍ड ऑफ रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज कराया है और भारतीय गायिकी को बहुत कुछ दिया है, उनकी तकलीफ को समझने की जगह अब भी वहां बैठे 'डेल्हाइट्स' बेशर्मी से अंग्रेजी की जुगाली करते रहे।

हद तो तब हो गई, जब लिम्का की मूल कंपनी कोका कोला की ओर से कार्यक्रम का प्रस्तोता इसके बाद भी आशा जी से गाने की फरमाइश अंग्रेजी में ही कर बैठा। इस पर आशा जी ने थोडा तल्ख होते हुए कहा, 'आप ही की कंपनी का कोक पीकर आई हूं, गला ख़राब हो गया है इसलिए नहीं गा सकती।'

- अविनाश चंद्र